scorecardresearch

New Driving License बनवाना हुआ बेहद आसान, 1 जुलाई से बदल जाएंगे नियम,पढ़ें पूरी डिटेल

अगर आप 18 वर्ष के हो चुके हैं और ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना चाहते हैं या फिर आप बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाते हैं तो यहां जान लीजिए नया ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने का आसान तरीका।

New Driving License बनवाना हुआ बेहद आसान, 1 जुलाई से बदल जाएंगे नियम,पढ़ें पूरी डिटेल
New Driving License बनवाना हुआ अब और आसान।

ड्राइविंग लाइसेंस एक ऐसा दस्तावेज है जो किसी भी वाहन को चलाने के लिए बेहद जरूरी होता है। अगर आप गाड़ी चलाते हैं लेकिन लाइसेंस नहीं बनवा रखा या आप 18 साल के हो चुके हैं और लाइसेंस बनवाना चाहते हैं। तो ये खबर सिर्फ आपके काम की है।

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने कोविड काल में लोगों की मुश्किलों को हल करते हुए मान्यता प्राप्त ड्राइविंग टेस्ट सेंटर के लिए नियम को अधिसूचित कर दिया है। जिसके बाद आप बिना आरटीओ के चक्कर काटे बिना ड्राइविंग टेस्ट दिए ही अपना लाइसेंस बनवा सकेंगे।

बिना परेशानी के अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आपको बस सड़क परिवहन एंव राजमार्ग मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर से ट्रेनिंग लेनी होगी जिसके बाद उस सेंटर की तरफ से आपको एक सर्टिफिकेट दिया जाएगा।

ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर की  तरफ से मिले इस सर्टिफिकेट के आधार पर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते समय आपको ड्राइविंग टेस्ट देने की बाध्यता नहीं रहेगी। मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचना के बाद मंत्रालय से मान्यता प्राप्त ये ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर 1 जुलाई 2021 से ट्रेनिंग देने के काम को शुरू कर देंगे।

दरअसल, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की रिपोर्ट कहती है कि वर्तमान समय में इस देश के अंदर लगभग 22 लाख ट्रेंड ड्राइवरों की कमी है। जिसके चलते सड़कों पर हादसे ज्यादा होते हैं। इसी कमी को पूरा करने के लिए मंत्रालय की तरफ से ये कदम उठाया गया है। (ये भी पढ़ेंभारत की टॉप 5 CNG कार जो दिलाएंगी पेट्रोल के बढ़ते दाम से आजादी)

मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त इन ड्राइविंग सेंटर में आपको वो सारी सुविधाएं मिलेंगी जिसमें आप अलग अलग परिस्थितियों के मुताबिक कार चलाना सीख सकेंगे। जैसे यहां आपको मिलेगा ड्राइविंग ट्रैक और ट्रेंड ट्रेनर जो आपको बहुत आसान तरीकों से सावधानी के साथ कार चलाना सिखा पाएंगे।

वर्तमान में आपको लाइसेंस बनवाने के लिए पहले आरटीओ में आवेदन करना होता है उसके बाद आरटीओ ऑफिस में एक टेस्ट होता है जिसके पास करने के बाद आपको एक लर्निंग लाइसेंस मिलता है जिसकी अवधि 3 महीने की होती है।

इस दौरान आप कार चलाना सीखने के बाद जब आरटीओ में लाइसेंस के लिए आवेदन करेंगे तब आपको वहां मौजूद अधिकारी को कार चलाकर दिखानी होगी उसके बाद वो अधिकारी आपके लाइसेंस को स्वीकृति देगा। जिससे 15 दिनों बाद डाक द्वारा लाइसेंस आपके घर आ जाएगा। लेकिन मंत्रालय के द्वारा जारी किए गए इन नए नियम के बाद ये व्यवस्था एकदम बदल जाएगी।

पढें कार-बाइक (Carbike News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 12-06-2021 at 02:20:14 pm
अपडेट