ताज़ा खबर
 

सेफ्टी के मानकों पर खरी नहीं मारुति सुजुकी की S-Presso, ग्लोबल रेटिंग में नहीं मिला कोई स्टार, Kia Seltos को थ्री स्टार

भारत में काफी बिक रही मारुति सुजुकी S-Presso ग्लोबल क्रैश सेफ्टी स्टैंडर्ड में फेल रही है। ग्लोबल न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम की ओर से कराए गए टेस्ट में मारुति की इस कार को कोई स्टार नहीं मिल सका है।

maruti suzuki spressoMaruti Suzuki S-Presso को एनसीएपी क्रैश टेस्ट में मिला जीरो स्टार

भारत में काफी बिक रही मारुति सुजुकी S-Presso ग्लोबल क्रैश सेफ्टी स्टैंडर्ड में फेल रही है। ग्लोबल न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम की ओर से कराए गए टेस्ट में मारुति की इस कार को कोई स्टार नहीं मिल सका है। हालांकि Hyundai Grand i10 Nios और Kia Seltos को क्रमश: 2 और 3 स्टार मिले हैं। यह टेस्ट इन तीन कारों पर ही किया गया था। इसमें Hyundai Grand i10 को दो स्टार मिले हैं, जबकि बीते कुछ सालों में भारत में तेजी से जगह बनाने वाली कंपनी किया मोटर्स की गाड़ी Kia Seltos तीसरे स्थान पर रही है। फीचर रिच केबिन के चलते काफी पॉप्युलर हुई मारुति सुजुकी S-Presso कार को टेस्ट में कोई स्टार न मिलना कंपनी के लिए झटका है।

हालांकि बड़े केबिन, ज्यादा माइलेज और लो मेंटनेंस कॉस्ट के चलते मार्केट में यह कार काफी बिक रही है। युवा चालक और सवारियों की सेफ्टी के लिहाज से किए गए टेस्ट में यह कार असफल साबित हुई है। इसकी वजह यह है कि कार में सिर्फ ड्राइवर साइड ही एयरबैग की सुविधा दी गई है। ग्लोबल NCAP टेस्ट में किसी भी कार का परफॉर्मेंस एयरबैग्स और उसके द्वारा दिए गए प्रोटेक्शन फीचर्स का आकलन किया जाता है। टेस्ट के दौरान कार में जो डमी पैसेंडर बैठाए गए थे, क्रैश के दौरान उनके सीने और गले पर गहरी चोटें आई हैं। हालांकि ड्राइवर के पैर के निचले हिस्से को डैशबोर्ड के चलते कुछ हद तक सुरक्षा जरूर मिली।

ग्लोबल एनसीएपी के महासचिव एलेजांद्रो फ्रास ने कहा, ‘यह बहुत निराशाजनक है कि भारतीय बाजार में सबसे बड़ी हिस्सेदारी वाली निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी भारतीय उपभोक्ताओं के लिए इस तरह के कम सुरक्षा मानकों की पेशकश करती है। निश्चित रूप से यह मारुति सुजुकी के लिए अपने ग्राहकों की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्धता दिखाने का समय है।’ बता दें कि मारुति सुजुकी ने पहली बार 2019 में एस-प्रेसो को भारतीय बाजार में पेश किया और इसने एंट्री-लेवल पैसेंजर मार्केट में कई उतार-चढ़ाव भी देखे।

टेस्ट रिजल्ट में यह बात भी सामने आई है कि कार के सीट बेल्ट भी बहुत ज्यादा कामयाब नहीं हैं और किसी भी घटना की स्थिति में तुरंत टाइट नहीं होते। इससे ड्राइवर और सवारी की सुरक्षा को लेकर रिस्क बना रहता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सिर्फ 4,444 रुपये की किस्त में घर लाएं Jawa मोटरसाइकिल, आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर दी जानकारी
2 टाटा की 7 सीटर एसयूवी Gravitas की जल्द होगी लॉन्चिंग, MG Hector Plus और महिंद्रा की XUV500 की करेगी मुकाबला
3 Hero Xtreme 200S BS 6 की हुई लॉन्चिंग, जानें- 1.15 लाख से ज्यादा की शानदार बाइक के फीचर्स
यह पढ़ा क्या?
X