ताज़ा खबर
 

FASTag अलर्ट से पुणे से चोरी हुआ Mahindra Scorpio ठाणे में बरामद, जानें- चंद घंटों में कैसे हुआ संभव, तकनीक ने कैसे की मदद?

FASTag एक इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन प्रोग्राम है, जिसको नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (NHAI) ने तैयार किया है। यह रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) के सिद्धांत पर कार्य करता है।

प्रतिकात्मक तस्वीर: FASTag अकाउंट को आप केवाईसी के साथ अधिकतम 2 लाख रुपये तक रिचार्ज करवा सकते हैं।

FASTag Alert: वाहनों पर FASTag के प्रयोग को सरकार ने ​अनिवार्य कर दिया है। इस नई तकनीक को हाइवे पर बने टोल प्लाजा पर लगने वाले जाम से निजात पाने के लिए प्रोग्राम किया गया है। लेकिन ये न केवल आपको जाम और टोल प्लाजा पर कैश देने से बचाता है बल्कि इससे चोरी की गई वाहन को भी पकड़ा जा सकता है। ताजा मामला महाराष्ट्र से सामने आया है, जहां पर चोरी की Mahindra Scorpio को महज चंद घंटो में FASTag की मदद से रिकवर कर लिया गया। आइये जानते हैं क्या है मामला —

पुणे के रहने वाले बिल्डर राजेंद्र जगताप ने अगस्त 2019 को नई Mahindra Scorpio खरीदी थी। इस एसयूवी पर पहले से ही FASTag लगा हुआ था। जानकारी के अनुसार राजेंद्र को 23 दिसंबर को नोटिफिकेशन मिला कि, उनके FASTag अकाउंट से भोर में तकरीबन 4 बजकर 38 मिनट पर 35 रुपये डिडक्ट (खर्च) हुए हैं। ये स्कॉर्पियो उस वक्त तालेगांव टोल प्लाजा क्रॉस कर रही थी। इसके बाद उन्हें ऐसा ही दूसरा नोटिफिकेश तकरीबन 6 बजे मिला, जो कि पनवेल टोल प्लाजा का था। इस मैसेज के बाद राजेंद्र अपने घर से बाहर आयें और देखा कि उनकी गाड़ी वहां पर नहीं थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, राजेंद्र ने तत्काल इस बात की सूचना अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन को दी। जिसके बाद पुलिस ने GPS ट्रैकिंग और FASTag नोटिफिकेशन से मिले लोकेशन के आधार पर ये पता लगा लिया कि, चोरी हुई स्कॉर्पियो ठाणे के हिरानंदानी ​स्टेट में मौजूद है। इसके बाद पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची और स्कॉर्पियो को बरामद कर लिया। हालांकि एसयूवी को चोरी करने वाले मौके से फरार थें, जिनकी तलाश पुलिस कर रही है। लेकिन FASTag की मदद से चोरी की एसयूवी को आसानी से बरामद करने में पुलिस को काफी मदद मिली।

क्या है FASTag: यह एक इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन प्रोग्राम है, जिसको नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (NHAI) ने तैयार किया है। यह रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) के सिद्धांत पर कार्य करता है। इस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को खरीदना बेहद आसान है। यदि आप नई कार खरीदते हैं तो आपके वाहन के साथ ही FASTag लगा हुआ मिलेगा। इसके अलावा यदि आपकी कार पुरानी है तो आप आप किसी भी NHAI टोल प्लाजा पर मौजूद पॉइंट ऑफ़ सेल (POS) से इसे ले सकते हैं।

हाल ही में सरकार ने निर्देशित किया है कि सभी चारपहिया वाहनों पर FASTag लगाना अनिवार्य होगा। इसके लिए समय सीमा को भी 1 महीने के लिए बढ़ा दिया गया है। ये एक तरह का स्टीकर होता है जिसे आपको अपने वाहन के विंडशिल्ड पर लगाना होता है। जब आप हाइवे पर किसी टोल प्लाजा से गुजरते हैं तो इस पर दिए QR कोड को प्लाजा पर लगा कैमरा स्कैन कर लेता है और आपके FASTag अकाउंट से पैसे कट जाते हैं। आपको समय समय पर अपने FASTag अकाउंट को रिचार्ज करवाना होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 करोड़ों की Mercedes G Class को हेलिकॉप्टर से 1,000 फुट की उंचाई से फेंका, SUV के उड़े परखच्चे! देखें VIDEO और जानें क्या है वजह
2 Royal Enfield से आई बड़ी खबर: कंपनी महिलाओं के लिए ला रहा है हल्की और सस्ती Bullet! जानें क्या होंगे फीचर्स और कीमत
3 Maruti Dzire की बाजार में धूम! महज 8 महीने में बिक गईं सवा लाख से ज्यादा कारें, इन वजहों से लोग कर रहे हैं पसंद
ये पढ़ा क्या?
X