ताज़ा खबर
 

Fastag रिचार्ज करने के नाम पर शुरू हुई धोखाधड़ी, लाखों रुपये का लोगों को लग रहा चुना! इन बातों को रखेंगे ध्यान तो नहीं होगी परेशानी

भारत में इस तरह की जालसाजी होना कोई बड़ी बात नहीं है, अक्सर लोगों के अकाउंट से धोखे से पैसे निकालने की खबरें आती रहती हैं। इसके लिए आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना बेहद आवश्यक है,

Fastag Fraud, Fastag Fraud news, Fastag Fraud case, Fastag Fraud cases news in hindi, How to recharge fastag, how to check balance in fastag account, How fastag works, Fastag Fraud news in hindi, Fastag Fraud case UP, Fastag Fraud case delhiअभी भी बहुत से ऐसे वाहन हैं जिन पर FasTag का प्रयोग नहीं किया जा रहा है।

Fastag Frauds: भारतीय सरकार ने हाईवे पर टोल प्लाजा पर लगने वाली लंबी लाइन को कम करने के लिए इस साल के शुरुआत में फास्टैग स्टीकर की प्रक्रिया शुरू की थी। वैसे तो यह सुविधा आम लोगों को राहत देने और उनका समय बचाने के लिए की गई थी। लेकिन अब फास्टैग पर भी जालसाजों की नजर चली गई है, और इसके जरिए धोखाधड़ी शुरू हो चुकी है। बता दें, हाल ही में फास्टैग को रिचार्ज करने के नाम पर एक व्यक्ति से 75 हजार 481 रुपए की ठगी की गई है।

दरअसल यह मामला यूपी की राजधानी लखनऊ का है, मिली जानकारी के मुताबिक आरके पुरम के रहने वाले ऋषिपाल ने अपनी कार के फास्टैग रिचार्ज के लिए एसबीआई फास्टैग कस्टमर केयर नंबर पर फोन किया। जिसके जवाब में उसके पास फास्टैग रिचार्ज के लिए एक अलग से कॉल आया। इस कॉल पर चोरों ने फास्टैग रीचार्ज करवाने के लिए एक लिंक भेजा और ग्राहक से उनकी जानकारी भरने के लिए कहा। जैसे ही उन्होंने जानकारी भरी उसके खाते से हजारों रुपये निकल लिए गए।

यह कहानी यहीं खत्म नहीं हुई फास्टैग के नाम पर इस तरह के कई केस सामने आ रहे हैं, आशियाना के देवीखेड़ा में रहने वाले एक अन्य व्यक्ति को भी इसका शिकार किया गया है। जिसमें उनके खाते से 1 लाख रुपये निकाल लिए गए। जिसके बाद पीड़ित ने साइबर क्राइम सेल से इसकी शिकायत की है।

कैसे करें बचाव: भारत में इस तरह की जालसाजी होना कोई बड़ी बात नहीं है, अक्सर लोगों के अकाउंट से पैसे धोखे से पैसे निकालने की खबरें आती रहती हैं। इसके लिए आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना बेहद आवश्यक है, जैसे कभी भी आपके फोन पर आए कॉल के द्वारा फास्टैग का रिचार्ज ना करें। इसके बजाय हमेशा कस्टमर केयर पर खुद से कॉल करके रिचार्ज की सुविधा लें। दूसरी सबसे अहम चीज कभी भी अपने कार्ड का पिन या ओटीपी नंबर किसी से भी शेयर ना करें। इसके अलावा फोन मेंं हमेशा कॉल रिर्कोड का विकल्प रखें। इस तरह की धोखाधड़ी से बचने के लिए हमेशा रिचार्ज बैंक में जाकर या इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन ही करें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना का कहर: ऑटो कंपोनेंट सेक्टर में हजारों नौकरियों पर संकट! जानिए क्या है वजह
2 Unlock 1.0: मॉल में घूमने का बना रहे हैं प्लान तो ध्यान रखें ये बात, आपका वाहन पार्किंग में नहीं है सुरक्षित! देखें क्या कहती है रिपोर्ट
3 2020 Honda City की ये हैं वो 5 खास बातें जिनकी वजह से मार्केट में हो रहा बेसब्री से इंतजार! जानें कीमत से लेकर लांचिंग तक की पूरी डिटेल
ये पढ़ा क्या?
X