ताज़ा खबर
 

सावधान: नो पार्किंग में खड़ी की गाड़ी तो जुर्माना 10,000 रुपये! BMC ने वसूले 1.8 लाख रुपये

बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने इस नियम को लागू करने के लिए शहर में 26 सार्वजनिक पार्किंग स्थलों को चिन्हित किया था। हालांकि, शहर में कुल 88 सार्वजनिक पार्किंग स्थल हैं।

BMC इस समय मुंबई में वाहनों की पार्किंग के लिए तेजी से अभियान चला रहा है।

देश भर में ट्रैफिक व्यवस्था को बेहतर बनाने की कवायद हो रही है। हाल ही में सरकार ने ट्रैफिक नियमों में संसोधन कर नए नियमों को लागू किया है। जिसके तहत ट्रैफिक नियमों के उलंघन करने की दशा में 10 गुना तक फाइन लगाया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला देश की वाणिज्यीक नगरी मुंबई में भी देखने को मिला है। यहां पर बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) नो पार्किंग जोन में वाहन खड़ा करने पर पूरे 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया है।

मुनसिपल कार्पोरेशन ने इस नए नियम के चलते पहले दिन में ही 80 वाहनों का चालान किया और पूरे 1.8 लाख रुपये की वसूली की है। इस अभियान को बीते रविवार को शुरु किया गया था। जिसके तहत शहर के भीड़ भाड़ वाले इलाकों में नो पार्किंग जोन बनाया गया था, यहां पर एक नोटिस बोर्ड भी लगाया गया था कि, नो पार्किंग जोन में वाहन खड़ा करने पर 10,000 रुपये जुर्माना देना होगा।

बीएमसी ने इस नियम को लागू करने के लिए शहर में 26 सार्वजनिक पार्किंग स्थलों को चिन्हित किया था। हालांकि, शहर में कुल 88 सार्वजनिक पार्किंग स्थल हैं। ये पार्किंग स्थल बिल्डरों द्वारा बनाए गए थें और इन्हें रियायती तौर पर मुफ्त में बीएमसी को दिया गया था।
इस नियम के अनुसार चारपहिया वाहनों के लिए नो पार्किंग जोन का फाइन 10,000 रुपये, दो पहिया वाहनों के लिए 5,000 रुपये और
ऑटो रिक्शा और अन्य तिपहिया वाहनों के लिए 8,000 रुपये का जुर्माना तय किया गया है।

पहले दिन BMC ने नो पार्किंग जोन में 63 कारों, 14 मोटरसाइकिल और 3 ऑटो रिक्शा का चालान किया है। इस नए नियम के पीछे मुनसिपल कार्पोरेशन का मंशा है कि शहर में बेतरतीब खड़े होने वाहनों पर लगाम लगाई जा सके। भीड़ भाड़ वाले इलाके में वाहन खड़े करने से ट्रैफिक जाम की समस्या बढ़ जाती है। फिलहाल ये नियम मुंबई में ही लागू किया गया है, ऐसी उम्मीद है कि इससे अन्य शहरों के मुनसिपल कार्पोरेशन भी प्रेरित होकर इसे अपने यहां लागू कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App