ताज़ा खबर
 

ड्राइविंग लाइसेंस (DL) अब Aadhaar कार्ड से होगा लिंक! जानिए क्या होंगे इसके फायदे?

ड्राइविंग लाइसेंस (DL) को Aadhaar कार्ड से लिंक कराने के पीछे सरकार का मकसद है कि जालसाजों पर नकेल कसी जा सके। इसके ​अलावा फर्जी और डुपलीकेट ड्राइविंग लाइसेंस बनाने वालों पर भी लगाम लगाया जा सकेगा।

Author Updated: September 23, 2019 6:40 PM
ड्राइविंग लाइसेंस को Aadhaar कार्ड से लिंक करना अब अनिवार्य होगा।

Driving Licence Linked with Aadhaar Card: इस समय देश भर में मोटर व्हीकल एक्ट की चर्चा जोरो पर है। ट्रैफिक नियमों का कड़ाई से पालन कराने के लिए सरकार ने हाल ही में बड़े बदलाव किए हैं। नियमों का उलंघन करने पर 10 गुना जुर्माना भी लगाया जा रहा है। अब सरकार ने ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर एक नई घोषणा की है। केंद्रीय आईटी और संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि ड्राइविंग लाइसेंस को Aadhaar Card से जोड़ा जाएगा।

बीते कम पटना में एक समारोह में रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि, देश भर में ड्राइविंग लाइसेंस की जालसाजी पर लगाम लगाने के लिए अब ड्राइविंग लाइसेंस को आधार कार्ड से लिंक करना अनिवार्य होगा। उन्होनें कहा कि, अगर आधार इसके लिए अनिवार्य कर दिया जाएगा तो डुप्लिकेट ड्राइविंग लाइसेंस नहीं बनाया जा सकता है।

रविशंकर प्रसान ने कहा कि, Aadhaar Card किसी भी तरह के भ्रष्टाचार की जांच में अहम भूमिका निभा रहा है। उन्होंने कहा कि आधार के माध्यम से डिजिटल पहचान के कारण सरकारी खजाने में एक लाख 47 हजार 677 करोड़ रुपये की बचत हुई है। फिलहाल अभी इस बारे में कोई जानकारी साझा नहीं की गई है कि किस तरह से आप अपने ड्राइविंग लाइसेंस को आधार कार्ड से लिंक कर सकते हैं।

बीते दिनों नए ट्रैफिक नियमों में बड़ा ​बदलाव किया गया है। जिसके तहत बिना ड्राइविंग लाइसेंस (DL) के ड्राइविंग करने पर 5,000 रुपये का जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा शराब पीकर वाहन चलाने पर 10,000 रुपये का जुर्माना, वहीं मानसिक या शारीरिक रूप से अनफिट होने के बावजूद ड्राइविंग करने पर 1,000 रुपये का जुर्माना देने का नियम बनाया गया है।

Aadhaar Card से ड्राइविंग लाइसेंस लिंक करना क्यों है जरूरी: सरकार का मानना है कि आधार कार्ड की अनिवार्यता के चलते देश भर में तकरीबन हर नागरिक के पास आधार कार्ड है। इसके लिए आधार कार्ड के निर्माण उक्त व्यक्ति की व्यक्तिगत पहचान जैसे बायोमैट्रिक इत्यादि का पूरा डाटा भी सरकार के पास रहता है। ऐसे में इसे ड्राइविंग लाइसेंस से लिंक करने के बाद एक व्यक्ति डुप्लीकेट लाइसेंस या फिर किसी तर​ह का फर्जी Driving Licence नहीं बनवा सकता है।

इससे सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि, किसी भी आपात स्थिति या दुर्घटना इत्यादि के मामले में आरोपी की तत्काल पहचान की जा सकेगी। इसके अलावा उसके ड्राइविंग लाइसेंस या आधार कार्ड के चलते उस तक आसानी से पहुंचा भी जा सकेगा और पुलिस उपयुक्त कार्यवाही को अंजाम दे सकेगी। इस समय देश में कई ऐसे वाहन चालक हैं जिनके पास फर्जी और डु​प्लीकेट ड्राइविंग लाइसेंस हैं। इसके अलावा सरकार पूरे देश में एक ड्राइविंग लाइसेंस को जारी करने की योजना पर भी तेजी से काम कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Royal Enfield: आधे से भी कम दाम में यहां बिक रही हैं Bullet, शुरूआती कीमत महज 33,500 रुपये! जानें कैसे खरीदें
2 Bajaj ने लांच किया सबसे सस्ती Pulsar 125 का नया स्पोर्टी वर्जन! मिलेगी ये खास सीट, जानें कीमत
3 Royal Enfield: आपकी बुलेट की ये शानदार एक्सेसरीज 675 रुपए से शुरू होती है, जानिए क्या-कितने रुपए का