ताज़ा खबर
 

कॉल ड्रॉप पर हर्जाने का नियम लागू होगा: ट्राई

दूरसंचार नियामक ट्राई ने कंपनियों के दबाव को खारिज करते हुए कहा है कि कॉल ड्रॉप पर ग्राहक को हर्जाना देने का घोषित नियम लागू होगा और उसने..

Author नई दिल्ली | October 30, 2015 2:12 AM

दूरसंचार नियामक ट्राई ने कंपनियों के दबाव को खारिज करते हुए कहा है कि कॉल ड्रॉप पर ग्राहक को हर्जाना देने का घोषित नियम लागू होगा और उसने मोबाइल सेवा कंपनियों से हर्जाना देने की प्रणाली पहली जनवरी तक तैयार रखने को कहा है। साथ ही उसने दूरसंचार कंपनियों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर गौर करने की भी बात कही है।

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण(ट्राई)के चेयरमैन आरएस शर्मा ने गुरुवार को संवाददाताओं से कहा- मैंने यह बहुत साफ कर दिया है। यह वैध नियमन है। सक्षम प्राधिकार द्वारा न तो इसे पलटा गया है, न ही संशोधित किया गया है या रद्द किया गया है। कंपनियों को इसे क्रियान्वित करने के लिए खुद को तैयार करने को लेकर निश्चित रूप से कदम उठाना चाहिए।

ट्राई कॉल ड्राप हर्जाना नियमों के क्रियान्वयन और सेवा सुधारने के लिये उनके द्वारा उठाए गए कदमों को लेकर दूरसंचार परिचालकों के साथ पहले ही बैठक कर चुका है। दिशानिर्देश के अनुसार दूरसंचार कंपनियों को उनके नेटवर्क में समस्या से हरेक कॉल ड्राप के लिए एक रुपए का हर्जाना ग्राहकों को देना होगा। यह हर्जाना अधिकतम तीन रुपया प्रतिदिन प्रति ग्राहक होगा।

दूरसंचार कंपनियों ने इस प्रकार के नियम बनाने को लेकर ट्राई के अधिकार क्षेत्र और इसके क्रियान्वयन में तकनीकी व्यवहारिकता को लेकर सवाल उठाए हैं। शर्मा ने कहा-ऐसा माहौल बनाया जा रहा है कि प्राधिकरण ने तकनीकी व्यवहार्यता पर विचार किए बिना इस नियम को लागू कर दिया। नियमन जारी करने से पहले प्राधिकरण ने तकनीकी व्यवहार्यता समेत मामले से संबद्ध सभी पहलुओं पर गौर किया।

सीओएआइ और एयूएसपीआइ जैसे उद्योग संगठनों ने ट्राई को पत्र लिखकर कहा है कि इन नियमों के क्रियान्वयन से मोबाइल कॉल की दरें बढ़ेंगी। शर्मा ने कहा- उद्योग संगठन फैसले की समीक्षा चाहते हैं। प्रथम, हमें इस बात का कानूनी रूप से जांच करना होगा कि क्या ट्राई निर्णय की समीक्षा कर सकता है या नहीं और उसके बाद आगे की कार्रवाई पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा- इस बारे में फैसले से दो सप्ताह के भीतर दूरसंचार कंपनियों को अवगत करा दिया जाएगा।

बैठक में भारती एअरटेल के प्रबंध निदेशक व सीईओ गोपाल विट्टल, वोडाफोन इंडिया के प्रबंध निदेशक और सीईओ सुनील सूद, आइडिया सेल्यूलर के प्रबंध निदेशक और सीईओ हिमांशु कपानिया, रिलायंस जियो इंफोकॉम के प्रबंध निदेशक संजय मशरुवाला और एमटीएनएल के निदेशक सुनील कुमार शामिल हुए। सीओएआइ के महानिदेशक राजन एस मैथ्यूज, एयूएसपीआइ के महासचिव अशोक सूद और अन्य दूरसंचार कंपनियों के प्रतिनिधि भी बैठक में शरीक थे।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App