ताज़ा खबर
 

कर्मचारियों की छंटनी के बाद अब ओला ने इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाने वाली कंपनी Etergo को खरीदने का लिया फैसला

कोरोना के संकट का हवाला देते हुए हाल ही में 1,400 कर्मचारियों की छंटनी करने वाली कैब ऐग्रिगेटर कंपनी ओला ने नीदरलैंड की इलेक्ट्रिक स्कूटर कंपनी Etergo को खरीदने का फैसला लिया है।

क्रेंद्र सरकार ने वाहन से जुड़े सभी दस्तावेजो की वैद्यता को 30 सितंबर तक के लिए बढ़ा दिया है

कोरोना के संकट का हवाला देते हुए हाल ही में 1,400 कर्मचारियों की छंटनी करने वाली कैब ऐग्रिगेटर कंपनी ओला ने नीदरलैंड की इलेक्ट्रिक स्कूटर कंपनी Etergo को खरीदने का फैसला लिया है। सॉफ्टबैंक ग्रुप की फंडिंग वाली कंपनी ओला ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि उसने स्थानीय स्तर पर इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण के मकसद से इटर्गो को खरीदने का फैसला लिया है। हालांकि ओला की ओर से अभी यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि कितनी रकम में उसने इटर्गो को खरीदने का फैसला लिया है। दरअसल इटर्गो के स्कूटरों को स्वैपेबल यानी बदलने वाली बैटरी के लिए जाना जाता है।

कंपनी की ओर से तैयार स्कूटर को एक बार फुल चार्ज करने के बाद 240 किलोमीटर तक चलाया जा सकता है। ओला का कहना है कि वह इस साल से ही स्कूटर की मैन्युफैक्चरिंग शुरू कर देगा और 2021 तक मार्केट में स्कूटर को लॉन्च किया जा सकता है। दरअसल कोरोना के संकट की वजह कैब बुकिंग के बिजनेस में गिरावट का सामना कर रही कंपनी ने अपनी रणनीति में बदलाव का फैसला लिया है। ओला की प्लानिंग है कि आने वाले सालों में वह खुद को भारत और दुनिया में इलेक्ट्रिक और स्मार्ट अर्बन मोबिलिटी सॉल्यूशंस कंपनी के तौर पर स्थापित कर सके।

ओला के फाउंडर और चेयरमैन भाविश अग्रवाल ने कहा कि भविष्य इलेक्ट्रिक वाहनों का ही है। कोरोना के संकट ने हमारे सामने यह अवसर पेश किया है कि हम इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के काम में दुनिया भर में अपनी छाप छोड़ सकें। बता दें कि हाल ही में ओला ने 1,400 कर्मचारियों की छंटनी की थी। ओला के तुरंत बाद ही अमेरिकी कैब ऐग्रिगेटर कंपनी उबर ने भी भारत में अपने 600 कर्मचारियों की छंटनी कर दी है।

आर्थिक गतिविधियों के ठप होने से तमाम कंपनियों को संकट का सामना करना पड़ रहा है। खासतौर पर कैब कंपनियों और ऑनलाइन फूड डिलिवरी कंपनियों को बड़े संकट का सामना करना पड़ रहा है। ऑनलाइन फूड डिलिवरी कंपनी जोमैटो और स्विगी ने भी अपने कर्मचारियों की छंटनी की है।

क्‍लिक करें Corona Virus, COVID-19 और Lockdown से जुड़ी खबरों के लिए और जानें लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस

Next Stories
1 बीजेपी शासित राज्यों के श्रम कानून बदलने को केंद्रीय मंत्री ने बताया गलत, कहा- कानून खत्म करना सुधार नहीं
2 जानें, क्या है टिड्डों का सेंसेक्स कनेक्शन, फसलों को नुकसान के डर से इन कंपनियों के शेयरों में आ सकता है उछाल
3 पीएम वय वंदना योजना: बुजुर्ग दंपती को मिल सकती है 18,500 रुपये की मासिक पेंशन, जानें- कैसे मिल सकता है फायदा
ये पढ़ा क्या?
X