ताज़ा खबर
 

Budget 2020 Speech: कांग्रेस ने बजट को बताया खोखला, राहुल गांधी बोले- नौजवानों को रोजगार मिलने का कोई ठोस विचार नहीं

Budget 2020: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कहा "निर्मला सीतारमण को मैं 10 में एक या शून्य नंबर दूंगा", वहीं अहमद पटेल बोले बजट पीएम की प्रशंसा पर केंद्रित था

Author Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | February 1, 2020 7:17 PM
बजट पर प्रतिक्रिया देते पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (फोटो एएनआई)

Budget 2020: कांग्रेस ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए पेश आम बजट को पूरी तरह खोखला करार देते हुए शनिवार को दावा किया कि बजट में कुछ ठोस नहीं है और इससे साबित होता है कि मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की उम्मीद छोड़ चुकी है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने बजट को लेकर सरकार पर निशाना साधा और दावा किया कि बजट में रोजगार सृजन एवं अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के ठोस उपाय नहीं हैं।

राहुल गांधी ने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा, “आज देश के सामने बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था की स्थिति प्रमुख मुद्दा हैं। लेकिन मुझे बजट में कोई ठोस विचार नहीं दिखा जिससे कहा जाए कि हमारे नौजवानों को रोजगार मिलेगा।” उन्होंने दावा किया, “इसमें सरकार की खूब सराहना की गई। कई बातों को दोहराया गया। इसमें कुछ ठोस नहीं, यह सिर्फ सरकार की सोच है। खूब बातें हो रही हैं, लेकिन किया कुछ नहीं जा रहा। देश मुश्किल का सामना कर रहा है। युवाओं को रोजगार नहीं मिला।”

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, “सरकार ने कर व्यवस्था के सरलीकरण की बात कही थी, लेकिन उसे और जटिल बना दिया। बजट में कुछ नहीं। यह खोखला है।” पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने आरोप लगाया कि ढाई घंटे से अधिक समय तक चला बजट भाषण आम लोगों से ज्यादा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा पर केंद्रित था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने आम बजट में कुछ भी उल्लेखनीय नहीं होने का दावा करते हुए कहा कि इस बजट को लेकर वह वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को 10 में से एक या शून्य नंबर दे सकते हैं।

उन्होंने यह दावा भी किया कि बजट से साबित होता है कि केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की उम्मीद छोड़ चुकी है। चिदंबरम ने संवाददाताओं से कहा, “मैंने हाल के वर्षों का सबसे लंबा बजट भाषण देखा। यह 160 मिनट तक चला। मुझे समझ नहीं आया कि बजट 2020-21 से क्या सन्देश देने का इरादा था।” उन्होंने कहा, “मुझे इस बजट में कोई यादगार विचार या बयान नहीं दिखा।” पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने वित्त मंत्री पर तंज करते हुए कहा, “निर्मला जी, पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था की बात जुमला ही निकली? बजट में रोजगार शब्द का जिक्र तक नहीं? पांच नए स्मार्ट सिटी बनाएंगे, जबकि पिछले सौ स्मार्ट सिटी का जिक्र नहीं किया।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Budget 2019 : मेक इन इंडिया के बाद अब ‘स्टडी इन इंडिया’, जानिए निर्मला सीतारमण के पिटारे से शिक्षा क्षेत्र के लिए क्या निकला
2 माता-पिता की मौजूदगी में निर्मला सीतारमण ने पढ़ा पहला बजट भाषण, पहली बार लाल कपड़े में बजट
3 Railway Budget 2019 Highlights: रेल इंफ्रा के लिए 50 लाख करोड़ रुपये की जरूरत, पीपीपी मॉडल पर जोर
यह पढ़ा क्या?
X