ताज़ा खबर
 

Budget 2019: पीयूष गोयल ने किसानों का 24 तो इनकम का 28 बार किया जिक्र, यहां देखें पूरी लिस्‍ट

Budget 2019: मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल के अंतिम बजट में किसानों के लिए खास योजनाओं का ऐलान किया है। गोयल ने बजट भाषण में कितनी बार किस शब्द का प्रयोग किया?

बजट भाषण देते हुए अंतरिम वित्त मंत्री पीयूष गोयल। (फोटोः एएनआई)

Budget 2019: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में अंतरिम वित्‍त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार (1 फरवरी) को अंतरिम बजट पेश किया। लोकसभा चुनाव से पहले आए बजट में किसान, कमाई, मध्‍य वर्ग, महिला और रोजगार का मुद्दा छाया रहा। वित्‍त मंत्री पीयूष गोयल ने इन शब्‍दों का कई बार उल्‍लेख किया। बजट भाषण में कमाई (आय) और किसानों का उल्‍लेख क्रमश: 28 और 24 बार हुआ।

गोयल ने मध्‍य वर्ग का 13, गरीबों का 15 और प्रधानमंत्री शब्‍द का 12 बार इस्‍तेमाल किया। इन वर्गों के लोगों के लिए अंतरिम बजट में विशेष प्रावधान की भी व्‍यवस्‍था की गई है। मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल के अंतिम बजट में किसानों के लिए खास योजनाओं का ऐलान किया है। गोयल ने बजट भाषण में कितनी बार किस शब्द का प्रयोग किया? नीचे देखें:

किसान- 24
युवा- 6
लोन- 19
मोदी- 5
गरीब- 15
प्रधानमंत्री- 12
आय- 28
पेंशन- 15

Budget 2019 Updates

करदाता- 10
बैंक- 16
एनपीए- 2
नोटबंदी- 2
कालाधन- 4
मध्‍य वर्ग- 13

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बजट पर कहा कि यह गरीब को शक्ति देगा, किसान को मजबूती देगा, श्रमिकों को सम्मान देगा, मध्यम वर्ग के सपनों को साकार करेगा, ईमानदार आयकर दाताओं का गौरवगान करेगा, इंफ्रास्ट्रक्टर निर्माण को गति देगा और अर्थव्यवस्था को बल देगा। वहीं, केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने वित्त वर्ष 2019-20 के बजट को ‘किसान बजट’ करार दिया। उन्होंने कहा कि यह सरकार की किसानों की आय को दोगुना करने की सोच के अनुरूप है।

क्या बोले अर्थशास्त्री?: नरेंद्र मोदी सरकार में अंतरिम वित्त मंत्री पीयूष गोयल के 2019-20 के बजट को अर्थशास्त्रियों ने लोकलुभावन बताया। कहा है कि इससे राजकोषीय गणित बिगड़ेगा। उनका कहना था कि अंतरिम बजट में राजकोषीय मजबूती पर लोकलुभावन घोषणाओं को तरजीह दी गई है। विशेषरूप से सरकार ने आम चुनाव से पहले किसानों और मध्यम वर्ग को लुभाने का प्रयास किया हैं। हालांकि, इन उपायों से उपभोग गढ़ेगा।

बजट 2019 से जुड़ी सभी प्रमुख खबरें पढ़ें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App