ताज़ा खबर
 

Budget 2021: विपक्ष के हंगामे के बीच निर्मला सीतारमण ने पेश किया बजट, जानिए वित्त मंत्री के बड़े ऐलान

Budget 2021 FM Nirmala Sitharaman Speech, Key Announcements: बजट भाषण के दौरान वित्त मंत्री ने कोरोना काल के राहत पैकेज का जिक्र किया। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन लगने के कुछ ही दिनों के भीतर गरीब कल्याण योजना की घोषणा की गई।

budget, budget 2021, budget live, live budgetवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पेश किया आम बजट

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सदन में आम बजट पेश कर रही हैं। कोरोना काल में पहली बार पेपरलेस बजट पेश किया जा रहा है। वित्त मंत्री का बजट भाषण शुरू होने से पहले विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया। बजट भाषण के दौरान वित्त मंत्री ने कोरोना काल के राहत पैकेज का जिक्र किया। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन लगने के कुछ ही दिनों के भीतर गरीब कल्याण योजना की घोषणा की गई।

इनकम टैक्स से जुड़े ऐलान की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

इसके अलावा वित्त मंत्री ने आत्मनिर्भर अभियान की भी बात की। निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह इस दशक का पहला डिजिटल बजट है। अब तक सिर्फ तीन बार बजट में बताया गया कि अर्थव्यवस्था मंदी की तरफ है। इस बार ऐसा ग्लोबल महामारी के कारण हुआ है।

टैक्स के मोर्चे पर: 75 साल से अधिक के वरिष्ठ नागिरकों के लिये आईटीआर (आयकर रिटर्न) भरना अनिवार्य नहीं, बैंक टीडीएस (स्रोत पर कर कटौती) काटेंगे। आयकर मामलों को दोबारा से खोलने के लिये समयसीमा आधा कर 3 साल किया गया। गंभीर धोखाधड़ी मामलों में यह 10 साल है। आयकर रिटर्न भरने वालों की संख्या बढ़कर 2020 में 6.48 करोड़ हुई जो 2014 में 3.31 करोड़ थी।

शेयर बाजार को बूस्ट: शेयर बाजारों ने वृद्धि को बढ़ावा देने पर केंद्रित बजट का जबरदस्त स्वागत किया। बजट से उपजे उत्साह के दम पर वित्तीय कंपनियों की अगुवाई में सोमवार को सेंसेक्स 2,315 अंक चढ़ गया। कारोबार के दौरान सेंसेक्स एक समय 48,764.40 अंक के दिन के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था। अंत में यह 2,314.84 अंक यानी पांच प्रतिशत की बढ़त के साथ 48,600.61 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह एनएसई का निफ्टी भी 646.60 अंक यानी 4.74 प्रतिशत बढ़कर 14,281.20 अंक पर बंद हुआ।

Next Stories
1 Budget 2021: बुजुर्गों को बजट से मिली बड़ी राहत, अब इस उम्र के लोगों को नहीं देना होगा इनकम टैक्स
2 Budget 2021: क्या हुआ सस्ता और क्या हुआ महंगा?, डिटेल में पढ़ें
3 “चुनाव वाले राज्यों को अधिक धनराशि का आवंटन एक तरह की ‘रिश्वत”, शिवसेना का वित्त मंत्री पर आरोप
यह पढ़ा क्या?
X