ताज़ा खबर
 

बजट 2020: इनकम टैक्स में कटौती की उम्मीद कम, ‘मेक इन इंडिया’ स्कीम बन सकती है गेमचेंजर

निर्मला सीतारमण के लिए एक तरफ टैक्स कलेक्शन घटने से बढ़े बजटीय घाटे को नियंत्रण में करने का चैलेंज है तो दूसरी तरफ मांग में इजाफा करने की भी चुनौती है।

इनकम टैक्स में कटौती करना सरकार के लिए होगा मुश्किल (फोटो सोर्स: फाइनेंशियल एक्सप्रेस)

आम बजट से पहले सैलरीड क्लास को आयकर में कटौती की उम्मीद है। हालांकि रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार के लिए ऐसा कर पाना मुश्किल होगा। बीते एक दशक के सबसे चुनौतीपूर्ण आम बजट में निर्मला सीतारमण के लिए एक तरफ टैक्स कलेक्शन घटने से बढ़े बजटीय घाटे को नियंत्रण में करने का चैलेंज है तो दूसरी तरफ मांग में इजाफा करने की भी चुनौती है।

आयकर में कटौती होना मुश्किल: बीते दो दशकों में यह पहला मौका है, जब डायरेक्ट टैक्स के कलेक्शन में कमी हो सकती है। ऐसे में सरकार के लिए इसे कम करना मुश्किल ही लगता है। जीएसटी कलेक्शन भी अनुमान से कम रहने के चलते इसके टारगेट को कम किया जा सकता है। हालांकि देखना होगा कि यह लक्ष्य हासिल हो पाता है या नहीं।

GST कलेक्शन में कमी से बढ़ी चिंता: जीएसटी की ही बात करें तो पिछले दिनों का काउंसिल की 38वीं मीटिंग में सभी तरह की लॉटरियों पर 28 पर्सेंट टैक्स लगाने का फैसला हुआ था। इस पर पहली बार ऐसा हुआ, जब 21 राज्यों ने पक्ष में वोट दिया, जबकि 7 राज्यों ने विरोध में वोटिंग की। इससे पहले जीएसटी में रेट या फिर अन्य किसी भी मसले पर फैसले सर्वसम्मति से ही होते थे। साफ है कि राज्यों को भी जीएसटी के कम कलेक्शन को लेकर चिंता थी।

ऐसे मिल सकती है मेक इन इंडिया को रफ्तार: शुरुआती दौर में कुछ उत्साह के बाद ‘मेक इन इंडिया’ स्कीम ठंडे बस्ते में पड़ी नजर आ रही है। ऐसे कच्चे माल पर आयात में कस्टम ड्यूटी घटाकर मेक इन इंडिया को बढ़ाया जा सकता है, जिनका उपयोग भारत में मैन्युफैक्चरिंग के लिए होता है। इससे भारतीय मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को प्रोत्साहन मिलेगा और वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा में उतर सकेगी।

…तो बढ़ेगा देश में रोजगार: देश में आर्थिक गतिविधियां भी इससे बढ़ेंगी, जिसके चलते रोजगार और खपत दोनों में इजाफा होगा। यह इकॉनमी के लिए बेहतर संकेत हो सकता है। एक्सपोर्ट भी महीने दर महीने गिरावट झेल रहा है। निर्यात पर सरकार की ओर से यदि कोई इंसेंटिव दिया जाता है तो यह इंडस्ट्री और इकॉनमी के लिए बेहतर हो सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बजट 2020: दस साल का सबसे मुश्किल बजट, 11 साल में सबसे कम जीडीपी ग्रोथ, निवेश 17 साल में सबसे सुस्त
2 KK Modi Group: पिता की मौत के तीन महीने बाद ही फैमिली बिजनेस बेच रहे हैं ललित मोदी, मां बीना मोदी से है विवाद
3 Union Budget 2020: ये 50 आयातित चीजें बजट के बाद हो जाएंगी महंगी
ये पढ़ा क्या?
X