ताज़ा खबर
 

Budget 2020 Analysis: निर्मला सीतारमण के बजट पर बोले आर्थिक जानकार, ग्रोथ में तेजी अब भी मुश्किल

Analysis of Budget 2020: जानकारों ने कहा कि सरकार को 2020-21 में अपने वित्तीय घाटे के लक्ष्य को भी तय करने में मुश्किल आ सकती है। ऐसे में उसे वित्तीय संस्थानों और सरकारी कंपनियों की हिस्सेदारी बेचने पर मिलने वाली करीब 30 अरब डॉलर की रकम पर ही निर्भर रहना पड़ सकता है।

Nirmala Sitharamanवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था कहलाने वाले भारत को मंदी के दौर से बाहर निकालने में शायद ही नए बजट से कोई मदद मिल पाएगी। अर्थव्यवस्था के जानकारों ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से पेश किए गए बजट 2020 को लेकर यह राय दी है। आर्थिक जानकारों ने कहा कि सरकार ने अपने खर्च में मामूली इजाफा ही किया है, इसके अलावा इनकम टैक्स की कम कटौती भी बहुत ज्यादा उत्साह बढ़ाने वाली नहीं है

यही नहीं जानकारों ने कहा कि सरकार को 2020-21 में अपने वित्तीय घाटे के लक्ष्य को भी तय करने में मुश्किल आ सकती है। ऐसे में उसे वित्तीय संस्थानों और सरकारी कंपनियों की हिस्सेदारी बेचने पर मिलने वाली करीब 30 अरब डॉलर की रकम पर ही निर्भर रहना पड़ सकता है। बता दें शनिवार को पेश किए गए बजट में सरकार ने वित्तीय घाटे के लक्ष्य को कुछ कम किया है। ऐसे में उसके पास करीब 15 अरब डॉलर की रकम अतिरिक्त तौर पर खर्च करने के लिए उपलब्ध होगी।

रकम जुटाने को निजीकरण का सहारा: इस राशि को सरकार मुख्य तौर पर इन्फ्रास्ट्रक्चर और कृषि पर खर्च करना चाहेगी। इसके अलावा निजीकरण के जरिए भी सरकार बड़ी रकम जुटाना चाहेगी। आर्थिक जानकारों और इंडस्ट्री के लीडर्स ने कहा कि इस बजट से लंबे समय में ग्रोथ को कुछ मदद मिलेगी, लेकिन अर्थव्यवस्था में तत्काल इससे कोई सुधार आना मुश्किल दिखता है।

11 साल के निचले स्तर पर आर्थिक ग्रोथ: बता दें कि 31 मार्च को समाप्त हो रहे मौजूदा वित्त वर्ष में आर्थिक ग्रोथ के महज 5 फीसदी या उससे भी कम रहनेका अनुमान जताया गया है, जो बीते 11 सालों में सबसे कम है। पहले ही संशोधित नागरिकता कानून के मुद्दे पर दबाव झेल रही सरकार को अब आर्थिक मुद्दे पर भी चुनौतियां का सामना करना पड़ सकता है।

मूडीज के मुताबिक लंबी चलेगी आर्थिक सुस्ती: नोमुरा से जुड़ी अर्थशास्त्री सोनल वर्मा ने कहा कि हम इस बजट को ग्रोथ और महंगाई के लिहाज से न्यूट्रल मानते हैं और बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं लगती। इसके अलावा रेटिंग एजेंसी मूडीज ने कहा कि बजट में सरकार ने ग्रोथ में कमी की चुनौती को स्वीकार किया है और यह सुस्ती लंबी चल सकती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Corona Virus Effect In China: चीन की अर्थव्यवस्था भी आएगी कोरोना वायरस की चपेट में, पहले ही 30 साल के निचले स्तर पर
2 मोदी सरकार ने BPCL के प्राइवेटाइजेशन की तरफ बढ़ाए कदम, अगले कुछ दिन में बोली लगाने के लिए LOI मंगा सकती है
3 Budget 2020: 100 में 70 डिडक्शन पर खत्म की टैक्स छूट पर इन पर मिलता रहेगा फायदा