ताज़ा खबर
 

Budget 2019: पीएम ने पूछा ‘कितने LED बल्ब बांटे’ तो जवाब नहीं दे पाए थे पीयूष गोयल, आज बजट में बताए आंकड़े

Budget 2019: दरअसल, एलईडी बल्बों का वितरण मोदी सरकार का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट रहा है और सरकार कई मौकों पर इससे जुड़ी उपलब्धियों को पेश भी कर चुकी है।

Author नई दिल्ली | February 1, 2019 3:09 PM
Union Budget 2019-20 India: वित्त मंत्री पीयूष गोयल संसद में बजट पेश करने के दौरान।

Union Budget 2019-20 India: पीयूष गोयल ने बतौर वित्त मंत्री बजट 2019 पेश किया है। अरुण जेटली की गैर मौजूदगी में शुक्रवार को बजट पेश कर रहे पीयूष गोयल के पास रेलवे और ऊर्जा विभाग की अतिरिक्त जिम्मेदारी है। पीयूष गोयल मोदी सरकार के सबसे तेजतर्रार मंत्रियों में गिने जाते हैं। वह सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के कोषाध्यक्ष भी रह चुके हैं। बतौर बिजली मंत्री पीयूष गोयल के काम की पीएम नरेंद्र मोदी कई मौकों पर सराहना कर चुके हैं। अपने बजट भाषण में भी पीयूष गोयल ने ऊर्जा के क्षेत्र में किए गए कार्यों की जानकारी दी। हालांकि, एक वक्त ऐसा हुआ था जब पीएम द्वारा उनके विभाग से जुड़ा एक सवाल पूछने पर वह कोई जवाब नहीं दे पाए थे।

द टेलिग्राफ को कुछ साल पहले दिए एक इंटरव्यू में पीयूष गोयल ने इस बात की जानकारी दी है। पीयूष गोयल का मानना है कि जो विभाग वह संभालते हैं, उनसे जुड़े सेक्टर में मोदी एक एक्सपर्ट हैं। गोयल ने बताया कि एक बार मोदी ने उनसे ऐसे ही पूछा लिया कि उनके विभाग ने कितने एलईडी बल्ब बांटे हैं? दरअसल, एलईडी बल्बों का वितरण मोदी सरकार का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट रहा है और सरकार कई मौकों पर इससे जुड़ी उपलब्धियों को पेश भी कर चुकी है। मोदी के इस सवाल पर पीयूष गोयल ने कहा कि वह पता लगाएंगे कि कितने बल्ब बांटे गए हैं। वहीं, पीएम ने पूछ लिया कि आज तक कितने बांटे गए? पीएम ने पीयूष को सलाह दी कि अगर वह नजर नहीं रखेंगे तो उन्हें इस बात की जानकारी ही नहीं रहेगी कि कितना टार्गेट पूरा हुआ है। पीयूष गोयल के मुताबिक, पीएम के साथ यह बातचीत ही DELP (Domestic Efficient Lighting Programme) बनाने की प्रेरणा बनी। इसके बाद अब वह इस बात पर नजर रख सकते हैं कि लोग बिजली का इस्तेमाल किस तरह से करते हैं।

बजट 2019 से जुड़ी सभी प्रमुख खबरें पढ़ें

बता दें कि वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को बजट पेश करते हुए कहा कि 2014 तक देश के करीब ढाई करोड़ परिवार 18वीं शताब्दी की तरह ही अंधेरे में बिना बिजली के लिए रहने को मजबूर थे। मार्च तक उन सभी 2.5 करोड़ घरों या परिवारों तक बिजली पहुंच जाएगी, जो अभी इससे वंचित है। गोयल के मुताबिक, सरकार ने युद्ध स्तर पर ऐक्शन लेते हुए 143 करोड़ एलईडी बल्ब बांटे हैं। इस कवायद से गरीब और मध्यम वर्ग के बिजली बिल में होने वाले खर्च में करीब 50 हजार करोड़ रुपये की बचत होगी। उन्होंने बताया कि सौभाग्य योजना का काम लगभग पूरा हो गया है। गोयल ने कहा, ‘घरों के विद्युतीकरण का काम लगभग पूरा हो चुका है। ढाई करोड़ ऐसे घरों की पहचान की गई है जहां अभी बिजली नहीं है। सौभाग्य योजना के तहत सभी इच्छुक परिवारों को मार्च, 2019 तक बिजली का कनेक्शन मिल जाएगा। सौभाग्य पोर्टल के अनुसार 16,320 करोड़ रुपये की प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) के तहत 2,48,19,168 परिवारों को बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया गया है। सौभाग्य योजना सितंबर, 2017 में शुरू हुई थी।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App