ताज़ा खबर
 

Budget 2019: बजट भाषण के बीच में बोले वित्त मंत्री- उरी फिल्म देखी, बहुत मजा आया

Budget 2019 Highlights: बजट भाषण के दौरान गोयल जब मनोरंजन उद्योग के लिए किये गए प्रावधानों का जिक्र कर रहे थे तो उन्होंने कहा, ‘‘हमने हाल ही में उरी फिल्म देखी। बहुत मजा आया और उसमें जो जोश था, देखने लायक था।’

Author February 1, 2019 3:13 PM
Union Budget 2019-20 India: केंद्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल। (पीटीआई फोटो)

Budget 2019-20 India: वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार (1 फरवरी, 2019) को लोकसभा में अपने बजट भाषण में मनोरंजन उद्योग के उल्लेख के दौरान फिल्म ‘उरी-द र्सिजकल स्ट्राइक’ का जिक्र किया और कहा कि फिल्म में बहुत जोश था। बजट भाषण के दौरान गोयल जब मनोरंजन उद्योग के लिए किये गए प्रावधानों का जिक्र कर रहे थे तो उन्होंने कहा, ‘‘हमने हाल ही में उरी फिल्म देखी। बहुत मजा आया और उसमें जो जोश था, देखने लायक था।’

उन्होंने कहा, ‘क्या जोश था, क्या माहौल था।’ गोयल के इस बयान के बाद सदन में बैठे राजग के सभी सांसदों ने मेजें थपथपाईं और फिल्म में अहम रोल निभाने वाले भाजपा सदस्य परेश रावल को भी मुस्कराते हुए देखा गया। मोदी सरकार के कार्यकाल में सितंबर 2016 में पीओके में हुई ‘र्सिजकल स्ट्राइक’ पर बनी यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल साबित हुई है जिसमें मुख्य भूमिका में रावल के अलावा विक्की कौशल भी हैं।

गोयल ने कहा, ‘‘मनोरंजन जगत से कई लोगों को रोगजार मिलता है और हम सभी फिल्में देखते ही हैं।’’ उन्होंने कहा कि पायरेसी पर रोक लगाने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी विभिन्न कार्यक्रमों में फिल्म के संवाद ‘हाउज द जोश’ को बोला।

इसके अलावा वित्त मंत्री ने फिल्म शूटिंग के लिए एकल खिड़की मंजूरी सुविधा का विस्तार भारतीय फिल्म निर्माताओं के लिए भी करने की घोषणा की। पहले यह सुविधा केवल विदेशी फिल्म निर्माताओं को मिलती थी। वित्त वर्ष 2019-20 का अंतरिम बजट पेश करते हुए संसद में वित्त मंत्री ने कहा,‘‘ मनोरंजन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारतीय फिल्म निर्माताओं को शूटिंग की मंजूरी एकल खिड़की व्यवस्था के तहत उपलब्ध कराई जाएगी। पहले यह सुविधा केवल विदेशी फिल्मकारों को उपलब्ध थी।’’

मनोरंजन उद्योग एक बड़ा रोजगार निर्माण क्षेत्र है। इस कदम से सभी भाषाओं के फिल्मकारों को फायदा होगा। पीडब्ल्यूसी और एसोचैम के हाल के एक अध्ययन के अनुसार भारतीय मीडिया और मनोरंजन उद्योग 2022 तक 3.73 लाख करोड़ रुपये का हो जाने का अनुमान है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App