ताज़ा खबर
 

Republic Day पर BSNL ने उतारा 269 रुपये का रीचार्ज, 26 दिन वैलिडिटी में मिलेंगे ये फायदे

इस प्लान को लांच करने के साथ ही कंपनी ने बताया है कि यह प्लान सीमित समय तक ही उपलब्ध होगा। कंपनी के प्रीपेड ग्राहक 269 रुपए का यह प्लान 26 जनवरी से 31 जनवरी तक ही रिचार्ज करवा पाएंगे।

कर्मचारियों के फरवरी माह के वेतन का भुगतान करेगी BSNL. तस्वीर का प्रयोग प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (फाइल फोटो)

रिपब्लिक डे के खास मौके पर भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) ने अपने प्रीपेड ग्राहकों के लिए एक नया रीचार्ज पैक लेकर आया है। सरकारी टेलीकॉम कंपनी का नया प्लान 269 रुपए का है। इस नए प्लान की वैलिडिटी 26 दिनों की है। 269 रुपए वाले इस प्लान में प्लान 2.6 जीबी डेटा भी मिलेगा। इसके साथ ही इस प्लान में 260 फ्री एसएमएस भी मिलेंगे। हालांकि टाकटाइम को मिनटों में बांध दिया गया है।

बीएसएनएल ने गणतंत्र दिवस के मौके पर लांच किए 269 रुपये वाले प्लान में 2,600 मिनट का टॉकटाइम मिलेगा। इस प्लान को लांच करने के साथ ही कंपनी ने बताया है कि यह प्लान सीमित समय तक ही उपलब्ध होगा। कंपनी के प्रीपेड ग्राहक 269 रुपए का यह प्लान 26 जनवरी से 31 जनवरी तक ही रिचार्ज करवा पाएंगे। बीएसएनएल ने इसे पूरे देश में लांच किया है। बीएसएनएल यूजर्स अगर इस रीचार्ज पैक को लेना चाहते हैं तो वह आज यानी 26 जनवरी से करा पाएंगे।

बता दें कि, बीते दिनों ही बीएसएन ने अपने 99 रुपए वाले प्लान की वैधता में बदवाल के साथ सिम बदलाने की फीस में बढ़ोत्तरी की थी। रिपोर्ट्स के अनुसार, 99 रुपए का अनलिमिटेड कॉलिंग वाला प्रीपेड रिचार्ज पहले 26 दिनों की वैधता के साथ आता था। हालांकि बदलाके तहत इसके दिनों में कटौती कर दी गई। अब यह 24 दिनों की वैलिडिटी के साथ आता है। कंपनी ने यह प्लान बीते साल लांच किया था।

इसके अलावा बीएसएनएल ने सिम बदलवाने के लिए ली जाने वाली फीस भी बढ़ा दी थी। सिम बदलवाने की कीमत में 10 गुना का इजाफा कर दिया गया है। पहले इस सेवा के लिए 10 रुपए चुकाने होते थे। लेकिन अब दाम बढ़ने के बाद 100 रुपए सिम बदलवाने के लिए देने होंगे। यह कीमतें लागू हो चुकी हैं। बीएसएनएल ने नई कीमतें 21 जनवरी 2019 से लागू की हैं।

 

Next Stories
1 PPF के दो अकाउंट रखने पर लग सकती है पेनाल्‍टी, जानें क्‍या हैं नियम
2 बजट 2019: गरीबों के लिए घर बनाने में पिछड़ी मोदी सरकार, दो वर्षों में 1 करोड़ का था लक्ष्‍य, बने 67 लाख
3 मोदी सरकार की नीतियों पर अमेरिकी रेटिंग एजेंसी ने उठाए सवाल, अर्थव्‍यवस्‍था के लिए बताया खतरनाक
ये पढ़ा क्या?
X