ताज़ा खबर
 

आर्थिक विकास घटाने की आशंका में गिरा बाजार

चीन की मांग कमजोर पड़ने से एशियाई बाजारों के दो साल के निचले स्तर तक लुढ़कने और साख निर्धारक एजेंसी मूडीज के भारत के आर्थिक विकास अनुमान को घटाने से आशंकित निवेशकों की बिकवाली के दबाव में मंगलवार को शेयर बाजार लगातार दूसरे सत्र गिरावट पर बंद हुआ। शुरुआती कारोबार में मजबूती के साथ खुले […]
Author August 18, 2015 17:36 pm

चीन की मांग कमजोर पड़ने से एशियाई बाजारों के दो साल के निचले स्तर तक लुढ़कने और साख निर्धारक एजेंसी मूडीज के भारत के आर्थिक विकास अनुमान को घटाने से आशंकित निवेशकों की बिकवाली के दबाव में मंगलवार को शेयर बाजार लगातार दूसरे सत्र गिरावट पर बंद हुआ।

शुरुआती कारोबार में मजबूती के साथ खुले बीएसई के तीस शेयरों वाले संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पर एशियाई और स्थानीय कारकों से दबाव बढ़ा और वह 46.73 अंक उतरकर 27831.54 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 10.75 अंक फिसलकर 8466.55 अंक पर रहा। मूडीज ने चालू मानसून सीजन में औसत से कम बारिश होने और सरकार के आर्थिक सुधार की गति धीमी पड़ने की आशंका के मद्देनजर चालू वर्ष के लिए देश के आर्थिक विकास अनुमान को 7.5 प्रतिशत से घटकार सात प्रतिशत के आसपास कर दिया, जिससे निवेशकों की निवेशधारणा कमजोर रही।

चीन की कमजोर मांग के चलते एशियाई बाजारों के दो साल के निचले स्तर तक लुढ़कने का दबाव भी घरेलू बाजार पर देखा गया। जापान का निक्की 0.32 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसैंग 1.43 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.62 प्रतिशत और चीन का शंघाई कंपोजिट 3.34 प्रतिशत तक टूटा। साथ ही ब्रिटेन का एफटीएसई में भी 0.61 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

चीन की मुद्रा यूआन के अवमूल्यन से डॉलर में आई तेजी के मद्देनजर निर्यात आधारित ऑटो, कैपिटल गुड्स, टेक, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और आईटी समूह की 1.61 प्रतिशत की तेजी को छोड़कर शेष तेल एवं गैस, एफएमसीजी, पावर, बैंकिंग, रियल्टी, पीएसयू, हेल्थकेयर और धातु समूह के शेयर 0.01 प्रतिशत से 1.92 प्रतिशत तक टूटे।

बीएसई में कुल 2984 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से 1631 बढ़त में और 1239 गिरावट पर रहे जबकि 114 में कोई बदलाव नहीं हुआ। इसी तरह एनएसई में कुल 13०2 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से 752 के भाव चढ़े और 502 के गिरे जबकि 48 के स्थिरता रही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.