ताज़ा खबर
 

एयर इंडिया के विमान पर कब्जे की तैयारी में ब्रिटेन की कंपनी, ये है पूरा मामला

केयर्न एनर्जी ने भारत सरकार से 1.2 अरब डॉलर वसूलने के लिए एयर इंडिया के विमान पर कब्जा करने की रणनीति बनाई है।

एयर इंडिया के पास जुलाई मध्य तक का समय है

आने वाले दिनों में सरकारी एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दरअसल, केयर्न एनर्जी ने भारत सरकार से 1.2 अरब डॉलर वसूलने के लिए एयर इंडिया के विमान पर कब्जा करने की रणनीति बनाई है। इस संकट से बचने के लिए एयर इंडिया के पास जुलाई मध्य तक का समय है।

केयर्न ने अदालत से की है अपील: दरअसल, केयर्न एनर्जी ने अमेरिका की संघीय अदालत में मुकदमा दायर कर एयर इंडिया को यह निर्देश देने की अपील की है कि वह भारत सरकार के खिलाफ जीते गए पंचाट मामले में 1.26 अरब डॉलर का भुगतान करे। केयर्न एनर्जी ने न्यूयॉर्क के दक्षिणी जिले की अमेरिकी जिला अदालत में दायर मामले में कहा है कि एयर इंडिया पर भारत सरकार का नियंत्रण है। ऐसे में अदालत को पंचाट के फैसले को पूरा करने का दायित्व एयरलाइन कंपनी पर डालना चाहिए।

दिसंबर 2020 में मिला था आदेश: आपको बता दें कि तीन सदस्यीय अंतरराष्ट्रीय पंचाट न्यायाधिकरण ने दिसंबर में एकमत से केयर्न पर पिछली तारीख से लगाए गए टैक्सों को खारिज कर दिया था। इसके साथ ही भारत सरकार को कंपनी के बेचे गए शेयर, जब्त लाभांश और टैक्स रिफंड को वापस करने को कहा था। इस न्यायाधिकरण में भारत की ओर नियुक्त जज भी शामिल थे।

भारत सरकार ने भी दायर की है याचिका: हालांकि, भारत सरकार ने इस फैसले को मानने से इनकार करते हुए नीदरलैंड की अदालत में इसे खारिज करने की याचिका दायर की है। (ये पढ़ें—कोरोना काल में बदले हैं नाइट ड्यूटी अलाउंस के नियम, ऐसे मिलेगा फायदा​)

केयर्न का कहना है कि वह इस फैसले के तहत एयर इंडिया जैसी सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों से वसूली करेगी। वहीं सरकार ने कहा है कि वह इस तरह के किसी भी कदम का विरोध करेगी। इस मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों के मुताबिक एयर इंडिया के पास केयर्न के मुकदमे को चुनौती देने के लिए जुलाई मध्य तक का समय है।

संपत्तियां बेचकर एयर इंडिया जुटाएगी 300 करोड़: आपको बता दें कि देश के विभिन्न हिस्सों में अपनी कॉमर्शियल और रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी बेचकर एयर इंडिया 300 करोड़ रुपये तक जुटाने पर विचार कर रही है।

जानकारी के मुताबिक एयर इंडिया ने देशभर में मौजूद अपनी संपत्तियों को बेचने के लिए ई-नीलामी बोलियां आमंत्रित की है। इसमें एक रेजिडेंशियल प्लॉट और मुंबई में एक फ्लैट, नई दिल्ली में पांच फ्लैट, बेंगलुरु में एक रेजिडेंशियल प्लॉट और कोलकाता में चार फ्लैट हैं, जिन्हें बिक्री पर रखा गया है।

Next Stories
1 सऊदी अरामको-RIL की बातचीत फाइनल स्टेज पर! मुकेश अंबानी की कंपनी के बोर्ड में शामिल होंगे ये शख्स
2 कोविड काल में तीरथ सरकार ने दी पर्यटन उद्योग को 29 करोड़ रुपये की संजीवनी
3 HDFC बैंक की तैयारी, 1906 करोड़ रुपये में Ergo के शेयर खरीदने को मिली मंजूरी
ये पढ़ा क्या?
X