ताज़ा खबर
 

सनफार्मा ने US बाजार से वापस मंगाई दवाएं, कंपनी के मालिक की दौलत में आई बड़ी गिरावट

दिलीप संघवी के दौलत की बात करें तो फिलहाल 10.9 बिलियन डॉलर से ज्यादा है। करीब 5 दिन पहले तक दिलीप संघवी की दौलत 11 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा थी।

Dilip Shanghvi news, sunpharmaसन फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज के मालिक दिलीप संघवी हैं (Photo-PTI )

जेनरिक दवाओं बनाने वाली प्रमुख कंपनी सन फार्मा ने अमेरिका बाजार में अपनी कुछ दवाओं को वापस मंगाने का फैसला लिया है। इस खबर के बाद भारत के शेयर बाजार में कंपनी के निवेशकों के बीच सुस्ती देखने को मिली है। वहीं, सनफार्मा के फाउंडर और भारतीय अरबपति दिलीप सांघवी की दौलत में भी बड़ी गिरावट आई है।

दिलीप संघवी की दौलत: सन फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज के मालिक दिलीप संघवी हैं। दिलीप संघवी के दौलत की बात करें तो फिलहाल 10.9 बिलियन डॉलर से ज्यादा है। करीब 5 दिन पहले तक दिलीप संघवी की दौलत 11 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा थी। फोर्ब्स के मुताबिक वह देश के टॉप 10 अमीरों में शामिल हैं। आपको बता दें कि वह, एक फार्मा डिस्ट्रीब्यूटर के बेटे हैं। उन्होंने पिता से 200 डॉलर के उधार लेकर फार्मा सेक्टर में एंट्री ली। दिलीप संघवी ने दौलत के मामले में साल 2015 में मुकेश अंबानी को पीछे छोड़ दिया था।

शेयर बाजार में सुस्तीः इस बीच, सनफार्मा के शेयर में भी सुस्ती देखने को मिली है। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन यानी सोमवार को बीएसई इंडेक्स पर शेयर का भाव 634 रुपये के स्तर पर रहा। वहीं, कंपनी का मार्केट कैपिटल भी 1 लाख 53 हजार करोड़ रुपये से कम रहा। 20 अप्रैल को कंपनी का शेयर भाव 660 रुपये के स्तर को छु लिया। यह बीते 52 सप्ताह का हाई लेवल है। वहीं, मार्केट कैपिटल की बात करें तो 1 लाख 55 हजार करोड़ रुपये के पार था।

कौन सी दवा मंगाईः अमेरिका के खाद्य एवं दवा प्रशासन (यूएसएफडीए) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक सन फार्मा अपनी मधुमेह के इलाज में काम आने वाली दवा रियोमेट की 13,834 शीशियों को बाजार से वापस मंगा रही है। इस दवा की प्रभावित खेप को अमेरिका के न्यू जर्सी स्थित सन फामास्युटिकल इंडस्ट्रीज इंक ने बाजार में उतारा है। सनफार्मा के अलावा जेनरिक दवाओं बनाने वाली- ल्यूपिन और जुबिलेंट कैडिस्टा भी अमेरिका बाजार में अपनी विभिन्न दवाओं को वापस मंगा रही हैं। (ये पढ़ें-कर्ज देती थी अनिल अंबानी की ये दो कंपनियां, फिर कारोबार समेटने की आ गई नौबत)

कंपनियां विभिन्न कारणों से इन दवाओं को वापस मंगा रहीं हैं। ल्यूपिन की अमेरिका स्थित इकाई सेफप्राजिल की 17,814 शीशियों को बाजार से वापस मंगा रही है। इस दवा का इस्तेमाल कान, त्वचा और अन्य प्रकार के कीटाणु संक्रमण के इलाज में किया जाता है। अमेरिका स्थित एक अन्य कंपनी जुबिलेंट कैडिस्टा फार्मास्युटिकल्स भी अपनी 12,192 शीशियों को बाजार से वापस मंगा रही है। इस दवा में कुछ खामी रह गई है। यह कंपनी नोएडा स्थित जुबिलेंट लाइफ साइंसेज कंपनी का हिस्सा है।

Next Stories
1 मुकेश अंबानी से ज्यादा है इन दो भाइयों की सैलरी, रिलायंस में मिली है बड़ी जिम्मेदारी
2 कपालभाति कर रहे, फिर भी पेट कम नहीं हो रहा, जब बड़े कारोबारी पर रामदेव ने ली थी चुटकी
3 प्राइवेट कंपनियों को हिस्सेदारी बेचे ONGC, केंद्र सरकार ने तीसरी बार डाला दबाव!
ये पढ़ा क्या?
X