ताज़ा खबर
 

Airtel के चेयरमैन सुनील मित्तल भारत में बनवाएंगे MIT के टक्कर का विश्वविद्यालय, 7000 करोड़ रुपये किये दान

सुनील मित्तल ने भावुक अंदाज में कहा, 'आज का दिन भारती परिवार की यात्रा में एक मील का पत्थर है। पहली पीढ़ी के बिजनेसमैन होने के नाते हम महसूस करते हैं कि भारत ने हमें सपने देखने और वर्ल्ड क्लास बिजनेस अंपायर खड़ा करने के मौके दिये।'

नई दिल्ली में कंपनी के सामाजिक भागीदारी से जुड़े योजनाओं का ऐलान करते हुए भारती एंटरप्राइजेज के संस्थापक और चेयरमैन सुनील मित्तल (बीच में) साथ में हैं वाइस चेयरमैन राजन भारती मित्तल और राकेश भारती मित्तल (फोटो-पीटीआई)

प्रमुख उद्योगपति और भारती एंटरप्राइजेज के चेयरमैन सुनील मित्तल देश में मैसाच्यूट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) और स्टैनफोर्ड के टक्कर का विश्वविद्यालय बनवाने जा रहे हैं। सुनील मित्तल ने आज (23 नवंबर) कहा कि भारती परिवार अपनी संपत्ति का दस प्रतिशत हिस्सा देश में उच्च क्वालिटी के शिक्षण संस्थान बनवाने पर खर्च करेगा। विज्ञान बिरादरी में अमेरिका स्थित MIT को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ शोध संस्थान माना जाता है। स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय भी दुनिया के नामी साइंस इंस्टीट्यूट में शामिल है। दिल्ली में सुनील मित्तल ने कहा कि वे अपनी संपत्ति का दस प्रतिशत हिस्सा समूह की कल्याणकारी कार्यों वाली इकाई भारती फाउंडेशन को देना चाहते हैं। कुल मिलाकर यह राशि 7,000 करोड़ रुपये बनती है। प्रस्तावित विश्वविद्यालय उत्तर भारत में 2021 तक परिचालन में आ जाएगा। नयी पीढ़ी का यह विश्वविद्यालय विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर केंद्रित होगा जहां पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट और रोबोटिक्स की पढ़ाई होगी। सुनील मित्तल ने कहा कि भारती परिवार समाज के गरीब तबके के वंचित युवाओं को नि:शुल्क शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। इस प्रस्तावित यूनिवर्सिटी का नाम सत्य भारती विश्वविद्यालय होगा। मित्तल ने कहा कि भारती परिवार ने जो राशि देने का संकल्प लिया है उसमें से ज्यादातर राशि नयी विश्वविद्यालय परियोजना में लगेगी।

विश्वविद्यालय के लिए जमीन का फैसला अभी होना है और इसमें 10,000 विद्यार्थियों को शिक्षा देने की योजना है। मित्तल ने कहा कि भारती परिवार ने जो राशि देने का संकल्प लिया है उसमें से ज्यादातर राशि नयी विश्वविद्यालय परियोजना में लगेगा। इस फैसले की जानकारी देते हुए सुनील मित्तल ने कहा,’इस काम में काफी समय से करना चाह रहा था, वास्तव में ये समाज को वापस कुछ देने जैसा है।’ सुनील मित्तल ने आज भावुक अंदाज में कहा, ‘आज का दिन भारती परिवार की यात्रा में एक मील का पत्थर है। पहली पीढ़ी के बिजनेसमैन होने के नाते हम महसूस करते हैं कि भारत ने हमें सपने देखने और वर्ल्ड क्लास बिजनेस अंपायर खड़ा करने के मौके दिये।’ उन्होंने कहा कि समाज पर अपने बिजनेस के जरिये गहरा सकारात्मक प्रभाव डालना भारती ग्रुप के डीएनए में है, और हम भारत की कामयाबी की कहानी में भागीदार बनकर गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। बता दें कि सुनील मित्तल टेलिकॉम दुनिया के मशहूर ब्रांड एयरटेल के भी मालिक हैं।

बता दें कि इन्फोसिस के सह संस्थापक नंदन निलेकणि और उनकी पत्नी रोहिणी ने हाल ही में अपनी आधी संपत्ति धर्मार्थ कार्यां के लिए देने की घोषणा की थी। ये दोनों शख्स हाल ही में ‘द गिविंग प्लेज’ नाम की मुहिम के सदस्य बने थे। ‘द गिविंग प्लेज’ दुनिया के रईस लोगों का एक ग्रुप है। इस ग्रुप के सदस्य अपनी जिंदगी में अथवा वसीयत के जरिये आधी जायदाद सामाजिक कामों में देने का वचन लेते हैं। इस  ग्रुप के दूसरे सदस्यों में विप्रो चीफ अजीम प्रेम जी, बॉयकान की मालकिन किरण मजूमदार शॉ जैसी शख्सियतें शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App