be careful while selecting a life insurance policy - - Jansatta
ताज़ा खबर
 

जीवन बीमा पॉलिसी बेचते समय एजेंट अगर कहे ये बातें, तो हो जाएं सावधान

जीवन बीमा पॉलिसी लेते समय सावधानी बरतना बेहद जरूरी है, इसलिए पूरी पड़ताल किए बिना कोई भी पॉलिसी न खरीदें।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर।

जीवन बीमा पॉलिसी लेना फायदेमंद होता है। इससे आपके परिवार के सदस्यों का जीवन सुरक्षित रहता है, लेकिन कई पॉलिसी एजेंट्स आपको पॉलिसी बेचते समय पूरी जानकारी नहीं देते। ऐसे में आपके लिए सावधानी बरतना जरूरी है। लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों की बिक्री से सरकार को अच्छी कमाई होती है। देश के जीवन बीमा कारोबार का लगभग 80% एलआईसी (लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया) के पास है और यह सरकारी मिलकियत वाली कंपनी है।

एजेंट के मुंह से ये बातें सुनते ही हो जाएं सावधान

मैडिकल टैस्ट नहीं कराना पड़ेगा– ज्यादातर जीवन बीमा पॉलिसी लेने के लिए मेडिकल टेस्ट कराना अनिवार्य होता है, यह बात आप अपने ध्यान से कभी भी उतरने न दें। पॉलिसी में रिस्क कवर बहुत कम होता है। अगर भविष्य में कोई दुर्घटना (मृत्यु) होती तो उसकी पूरी जांच होती हैं। आखिरी वक्त में नॉमिनी के क्लेम करने पर उसे बताया जाता है कि पॉलिसी हॉल्डर को जो बीमारी थी, उसके बारे में बीमा कंपनी को बताया नहीं गया था।

ये सबसे बढ़िया इंवेस्टमेंट ऑप्शन हैं– जीवन बीमा प्रॉडक्ट चलाने के लिए शुल्क लिए जाते हैं इसलिए यह कभी भी एक निवेश उत्पाद नहीं बन सकती है। जोखिम शुल्क, ऐसेट मैनेजमेंट चार्ज, जैसे कई चार्ज लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी में वसूले जाते हैं ऐसे में यह इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है।

ये एलआईसी का यूनिट लिंक्ड प्लान है और इसमें सरकार की तरफ से रिटर्न मिलेगा– किसी भी यूलिप में गारंटीड रिटर्न नहीं मिलता। पारंपरिक यूलिप प्लान (एंडाओमेंट) लेने पर रिटर्न हासिल कर सकते हैं लेकिन ये सबसे कम दरों पर रिटर्न देते हैं। तो ये बात जान लें कि आप यूलिप प्लान किसी से भी लें, एसबीआई, एचडीएफसी, एलआईसी, आईसीआईसीआई। जोखिम पूरी तरह आप पर ही होगा इसलिए आपके सावधानी बरतना जरूरी है।

निवेश करने का ये आखिरी हफ्ता– बीमा एजेंट कई बार पॉलिसी बेचने के लिए पूरी बात छिपा लेते हैं और ग्राहकों पर जल्दी पॉलिसी खरीदने का जोर डालते हैं। ऐसे में एजेंट आप पर दबाव बनाता है कि आप पॉलिसी जल्द खरीदें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App