ताज़ा खबर
 

रिपोर्टः बैंकों ने 3.5 लाख करोड़ के कॉरपोरेट लोन को अब तक घोषित नहीं किया NPA

करीब 3.5 लाख करोड़ रुपये या 3.9 प्रतिशत दबाव वाले कॉरपोरेट कर्ज को बैंकों के खातों में अभी तक ‘पहचान’ नहीं दी गई है और इसमें से 40 प्रतिशत के सितंबर, 2020 तक डूबा कर्ज बनने की संभावना है।

Author February 6, 2019 11:01 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

रिपोर्ट में दावा किया है बैंकों ने 3.5 लाख करोड़ के दबाव वाले कॉरपोरेट ऋण को अभी तक एनपीए घोषित नहीं किया है। करीब 3.5 लाख करोड़ रुपये या 3.9 प्रतिशत दबाव वाले कॉरपोरेट कर्ज को बैंकों के खातों में अभी तक ‘पहचान’ नहीं दी गई है और इसमें से 40 प्रतिशत के सितंबर, 2020 तक डूबा कर्ज बनने की संभावना है। एक रिपोर्ट में इस बारे में आगाह किया गया है। ये खाते सितंबर, 2018 तक कुल दबाव वाले 19.3 प्रतिशत या 13.5 से 14 लाख करोड़ रुपये तक के कॉरपोरेट ऋण का हिस्सा हैं।

इंडिया रेटिंग्स के सहायक निदेशक (बैंकिंग एवं वित्तीय संस्थान) जिंदल हरिया ने मंगलवार को यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘कॉरपोरेट के 19.3 प्रतिशत दबाव वाले कर्ज का 3.9 प्रतिशत बैंकों के खातों में अभी तक ‘सामान्य’ कर्ज बना हुआ है। इसमें से डेढ़ से दो लाख करोड़ रुपये का कर्ज 2019-20 की दूसरी छमाही तक गैर निष्पादित आस्तियों (एनपीए) में बदल सकता है।’’

उन्होंने बताया कि इस 13.5 से 14 लाख करोड़ रुपये के दबाव वाले ऋण में से सितंबर, 2018 तक सिर्फ 10 लाख करोड़ रुपये के ऋण की ही ‘पहचान’ की गई है। जिंदल ने कहा कि बैंकों को इस डेढ़ से दो लाख करोड़ रुपये के ऋण के लिए 40,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त प्रावधान करने की जरूरत हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App