ताज़ा खबर
 

पतंजलि आयुर्वेद के मुनाफे में 40 पर्सेंट का इजाफा, लॉकडाउन में और बढ़ी सेल, जानें, क्यों मिल रही बाबा रामदेव के कारोबार को रफ्तार

Patanjali Ayurved profit increased: पतंजलि आयुर्वेद के मुनाफे में फाइनेंशियल ईयर 2019-20 में 39 पर्सेंट का इजाफा हुआ है। इसके अलावा रेवेन्यू भी 6 प्रतिशत बढ़ते हुए 9,024.2 करोड़ रुपये के लेवल पर पहुंच गया है।

baba ramdevयोग गुरु बाबा रामदेव (फाइल फोटो)

योग गुरु बाबा रामदेव के नेतृत्व वाली कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के मुनाफे में फाइनेंशियल ईयर 2019-20 में 39 पर्सेंट का इजाफा हुआ है। इसके अलावा रेवेन्यू भी 6 प्रतिशत बढ़ते हुए 9,024.2 करोड़ रुपये के लेवल पर पहुंच गया है। ब्रिकवर्क्स रेटिंग्स के मुताबिक पतंजलि आयुर्वेद को 485 करोड़ रुपये का लाभ हुआ है। यही नहीं वित्त वर्ष के आखिरी महीने मार्च में लागू हुए लॉकडाउन के चलते जब दिग्गज कंपनियों को शीर्षासन करना पड़ गया, तब भी पतंजलि की ग्रोथ का सिलसिला जारी रहा है। लॉकडाउन की अवधि के दौरान पतंजलि के उत्पादों की बिक्री में तेजी देखने को मिली। इसके अलावा फाइनेंशियल ईयर 2020-21 की पहली तिमाही में भी कंपनी की सेल में जोरदार इजाफा हुआ है।

जानकारों के मुताबिक एफएमसीजी सेक्टर की कंपनी होने और तमाम हर्बल उत्पादों की मांग के चलते यह इजाफा हुआ है। खासतौर पर पतंजलि के कई प्रोडक्ट्स की इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर पहचान है और कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए इनकी मांग में तेजी आई है। इसका सीधा असर कंपनी के कारोबार पर देखने को मिला है।

इससे पहले दिसंबर में ब्रिकवर्क्स रेटिंग्स ने पतंजलि का आउटलुक पॉजिटिव बताते हुए कहा था कि कंपनी अपने टर्नओवर और मुनाफे को लगातार बढ़ाने में कामयाब रही है। यही नहीं पतंजलि ने बीते साल दिवालिया हुई कंपनी रुचि सोया का अधिग्रहण किया था और तब से अब तक रुचि सोया के शेयरों में 80 गुना से ज्यादा का इजाफा हो चुका है।

फाइनेंशियल ईयर 2019 में भी पतंजलि का टर्नओवर बढ़ते हुए 8522.69 करोड़ रुपये के लेवल पर पहुंच गया था। इससे पहले 2018 में यह 8135.94 करोड़ रुपये ही था। गौरतलब है कि हाल ही में पतंजलि आयुर्वेद की ओर से कोरोना इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर कोरोनिल किट लॉन्च की गई है। शुरुआत में बाबा रामदेव ने इसे कोरोना से निपटने वाली दवा करार दिया था, लेकिन तमाम विवादों के बाद उन्होंने इसे इम्यूनिटी बूस्टर के तौर पर बेचने की बात कही है। इसके अलावा कंपनी की गिलोय, शहद जैसी चीजों की भी बाजार में इम्यूनिटी बूस्टर के तौर पर मांग बढ़ी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जानें, ओडिशा से महाराष्ट्र तक किन राज्यों ने सरकारी नौकरियों में भर्ती पर लगाई रोक, डिटेल में जानें
2 पेट्रोल-डीजल पर बढ़े टैक्स से 2.25 लाख करोड़ रुपये कमाएगी मोदी सरकार, दुनिया में दाम घटते गए, भारत में होता रहा इजाफा
3 रिलायंस जियो का जलवा कायम है! अब 30,000 करोड़ का निवेश करने की तैयारी में गूगल, मुकेश अंबानी को मिलेगा 14वां निवेशक
IPL 2020 LIVE
X