ताज़ा खबर
 

डाबर को हुआ बड़ा मुनाफा, यहां रामदेव के पतंजलि से मिलती है टक्कर

डाबर ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को दी सूचना में बताया कि वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में उसे 281.60 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था।

आयुर्वेद की दुनिया में डाबर को बाबा रामदेव की पतंजलि से टक्कर मिलती है। (Photo-Indian Express )

एफएमसीजी कंपनी डाबर इंडिया लिमिटेड ने वित्तीय वर्ष 2020-21 की आखिरी तिमाही में मजबूत बिक्री के दम पर 377.3 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है। आयुर्वेद की इस दुनिया में डाबर को बाबा रामदेव की पतंजलि से टक्कर मिलती है।

डाबर को कितना मुनाफा: कंपनी ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को दी सूचना में बताया कि वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में उसे 281.60 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था और इस तरह उसके मुनाफे में 33.98 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। डाबर ने बताया कि 31 मार्च 2021 को समाप्त हुई चौथी तिमाही में कंपनी की आय 25.27 प्रतिशत बढ़कर 2,336.79 करोड़ रुपये हो गई। जो पिछले वित्तीय वर्ष की इसी अवधि में 1,865.36 करोड़ रुपये रही थी।

किस कारोबार में मुनाफा: डाबर इंडिया की ओर से कहा गया कि बाजार में चुनौतीपूर्ण स्थिति के बावजूद डाबर ने लगातार दूसरी तिमाही में दो अंकों में वृद्धि दर्ज की है। वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान व्यापार में 25.6 प्रतिशत अधिक लाभ के साथ कंपनी की वित्तीय स्थिति मजबूत बनी हुई है। वहीं वित्तीय वर्ष 2020-21 की जनवरी-मार्च तिमाही में उपभोक्ता से जुड़े कारोबार में डाबर की आय 26.36 फीसदी बढ़कर 2,009.63 करोड़ रुपये रही जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 1,590.38 करोड़ रुपये थी।

इसके अलावा वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही में कंपनी के खाद्य कारोबार की आय भी 24.93 प्रतिशत वृद्धि के साथ 274.14 करोड़ रुपये रही। जो पिछली वित्त वर्ष की इसी अवधि में 219.44 करोड़ रुपये थी। आपको बता दें कि डाबर की प्रतिद्वंदी कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के नतीजे अभी जारी नहीं हुए हैं। कंपनी शेयर बाजार में लिस्टेड नहीं है।

रामदेव की कंपनी का प्लान: हालांकि, बीते दिनों ऐसी खबरें आईं कि पतंजलि जल्द IPO या आरंभिक सार्वजनिक पेशकश लेकर आ सकती है। बिजनेसलाइन की एक रिपोर्ट में बताया गया था कि योगगुरु रामदेव ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी बीएसई की सभा में कहा कि वह जल्द ही दो बड़ी घोषणाएं करने के लिए एक्सचेंज में आएंगे।

इनमें से एक, रूचि सोया और दूसरा पतंजलि के संबंध में होगा। रूचि सोया पहले से ही शेयर बाजार में लिस्टेड कंपनी है लेकिन पतंजलि की लिस्टिंग नहीं हुई है। ऐसे में अगर आईपीओ आता है तो इसके जरिए पतंजलि शेयर बाजार में लिस्टेड हो जाएगी। (ये पढ़ें—इस तेल का विरोध करते हैं रामदेव)

Next Stories
1 मुकेश अंबानी की रिलायंस को टक्कर देने के लिए Amazon का बड़ा दांव, 915 करोड़ रुपये का करेगी निवेश
2 अनिल अंबानी की इस कंपनी ने लगाई लंबी छलांग, नतीजों से पहले निवेशक हुए मालामाल
3 अलर्ट! LIC ने बदल दिए हैं ये 3 नियम, ग्राहकों के लिए जानना है जरूरी
ये पढ़ा क्या?
X