ताज़ा खबर
 

इस तेल के आयात को कम करने की हो रही मांग, योगगुरु रामदेव का ये है प्लान

Baba Ramdev led Patanjali Ayurved, Palm oil: इसी साल के शुरुआती महीने में योग गुरु रामदेव ने पाम ऑयल पर निर्भरता को कम करने के लिए अपने प्लान के बारे में जानकारी दी थी।

ramdev, palm oil, ramdev newsरामदेव ने पाम ऑयल पर अपने प्लान के बारे में जानकारी दी थी (Photo-Indian Express )

Baba Ramdev led Patanjali Ayurved, Palm oil: भारत में पाम ऑयल का आयात हमेशा से एक चर्चित मुद्दा रहा है।

दरअसल, इंडोनेशिया और मलेशिया भारत को पाम ऑयल (Palm oil)  के प्रमुख आपूर्तिकर्ता देश हैं। बीते साल मलेशिया से तनाव के बाद भारत ने पाम तेल (Palm oil) के आयात पर पाबंदी लगा दी थी। इसके बाद से ही पाम तेल (Palm oil) के घरेलू उत्पादन पर जोर दिया जा रहा है। इस मुहिम में पतंजलि आयुर्वेद के फाउंडर रामदेव समेत अलग-अलग घरेलू संगठन भी शामिल हैं।

इसी के तहत हाल ही में खाद्य तेल उद्योग के प्रमुख संगठन साल्वेंट एक्स्ट्रैटर्स एसोसिएशन (एसईए) ने सरकार से पाम ऑयल (सीपीओ) की ही तरह पाम स्टीयरिन (ठोस वसा) पर 35.75 प्रतिशत का आयात शुल्क लगाने का आग्रह किया ताकि घरेलू पाम रिफाइनिंग और ओलियोकेमिकल्स उद्योग को संरक्षित किया जा सके।

एसईए के अध्यक्ष अतुल चतुर्वेदी के मुताबिक पाम ऑयल (Palm oil) के पाम स्टीयरिन और अन्य सह-उत्पादों के आयात को शून्य शुल्क पर अनुमति दी गई है, लेकिन घरेलू कंपनियां भी आयातित सीपीओ से इन्हीं उत्पादों का निर्माण कर रही हैं। घरेलू कंपनियां 35.75 प्रतिशत का सीमा शुल्क और साथ ही कृषि उपकर का भुगतान करते हुए पाम ऑयल का आयात करती हैं।

आपको बता दें कि पाम स्टीयरिन, सीपीओ (Palm oil) का सह-उत्पाद है। इसका उपयोग खाद्य उद्योग में बेकरी वसा उत्पाद बनाने या सौंदर्य प्रसाधन और व्यक्तिगत देखभाल उद्योग में किया जाता है।

रामदेव ने बताया था अपना प्लान: इसी साल के शुरुआती महीने में योग गुरु रामदेव ने पाम ऑयल पर निर्भरता को कम करने के लिए अपने प्लान के बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था कि हम इंडोनेशिया और मलेशिया पर अपनी निर्भरता खत्म करना चाहते हैं। इसके लिए पतंजलि भारत में ऑयल पाम वृक्षारोपण और सरसों के तेल का उत्पादन बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर कदम उठाने जा रही है, जिससे 2.5 लाख करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा बचेगी।

पाम ऑयल के आयात में गिरावट: बता दें कि फरवरी 2020 के दौरान पाम ऑयल का आयात 5,40,470 टन का हुआ था। इससे एक ​महीना पहले जनवरी में कच्चे पाम तेल का आयात सालाना आधार पर 44.99 प्रतिशत बढ़कर 7.67 लाख टन हो गया था।

Next Stories
1 बुरे दौर में भी अनिल अंबानी की कंपनी ने किया शानदार मुनाफा, जानिए मार्च में निवेशकों का क्या रहा हाल
2 पेट्रोकेमिकल से JIO तक मुकेश अंबानी की RIL का है दायरा, जानिए और कहां-कहां फैला रखा है कारोबार?
3 टाटा से हार के बीच रॉकेट की तरह बढ़ी पलोनजी मिस्त्री की दौलत, दुनिया में हासिल किया ये मुकाम
ये पढ़ा क्या?
X