ताज़ा खबर
 

रामदेव ने 2018 में शुरू किया था डेयरी का कारोबार, ऐसे पतंजलि को मिला बूस्ट

साल 2018 में पतंजलि ने पहली बार डेयरी प्रोडक्ट्स को लॉन्च किया था, तभी से सुनील बंसल कंपनी के साथ जुड़े थे।

डेयरी प्रोडक्ट्स ने पतंजलि के मुनाफे में अहम भूमिका निभाई (Photo-Indian Express )

योगगुरु बाबा रामदेव के सहयोगी सुनील बंसल का कोरोना संक्रमण से निधन हो गया। बतौर सीईओ सुनील बंसल, रामदेव के पतंजलि के डेयरी कारोबार को संभाल रहे थे। पतंजलि के लिए काम करने से पहले उन्होंने अमूल और वालमार्ट में भी सेवा दी थी।

साल 2018 में डेयरी प्रोडक्ट्स लॉन्च: साल 2018 में पतंजलि ने पहली बार डेयरी प्रोडक्ट्स को लॉन्च किया था, तभी से सुनील बंसल कंपनी के साथ जुड़े थे। पतंजलि के डेयरी की शुरुआत दूध से हुई थी, इसके बाद रामदेव ने दही, छाछ और पनीर को भी मार्केट में उतारा था। लॉन्चिंग के अगले वित्त वर्ष में पतंजलि ने डेयरी प्रोडक्ट्स की 1,000 करोड़ रुपये की बिक्री का लक्ष्य रखा था। रिपोर्ट के मुताबिक पतंजलि के मुनाफे में डेयरी प्रोडक्ट्स ने अहम भूमिका निभाई है।

मुनाफे में पतंजलि: आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2019-20 में पतंजलि आयुर्वेद का नेट प्रॉफिट करीब 22 फीसदी बढ़कर 424.72 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। वहीं, वर्ष 2018-19 में पतंजलि आयुर्वेद का कुल प्रॉफिट 349.37 करोड़ रुपये था। 31 मार्च, 2020 को खत्म हुई तिमाही में पतंजलि का ऑपरेशनल रेवेन्यू पिछले साल की तुलना में 5.86 फीसदी बढ़कर 9,022 करोड़ रुपये तक पहुंच गया। आपको यहां बता दें कि बीते वित्त वर्ष यानी 2020-21 के पतंजलि आयुर्वेद के नतीजे अभी जारी नहीं हुए हैं।

2018 में रुचि सोया की भी चल रही थी डील: साल 2018 में पतंजलि के डेयरी प्रोडक्ट लॉन्च हुए तो इस दौरान कंपनी रुचि सोया के भी अधिग्रहण में जुटी हुई थी। पतंजलि ने रुचि सोया का अधिग्रहण साल 2019 में किया था। इस कंपनी को खरीदने के लिए पतंजलि ने 3 हजार करोड़ से ज्यादा का लोन लिया था। इसमें सबसे ज्यादा लोन एसबीआई से लिया गया था। (ये पढ़ें—इस तेल का विरोध करते हैं रामदेव)

न्यूट्रीला ब्रांड से मशहूर हुई रुचि सोया के शेयर भाव में कुछ दिनों से जबरदस्त छलांग है। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन यानी सोमवार को इसका शेयर भाव 5 फीसदी की बढ़त के साथ 1070 रुपये के स्तर को पार कर लिया है।

वहीं, रुचि सोया का मार्केट कैपिटल भी अब बढ़कर 31 हजार करोड़ से ज्यादा हो गया है। बीते 10 दिनों में रुचि सोया के निवेशकों को 10 हजार करोड़ से ज्यादा का फायदा हो चुका है। (ये पढ़ें—डाबर को हुआ बड़ा मुनाफा, यहां रामदेव के पतंजलि से मिलती है टक्कर)

Next Stories
1 लिबर्टी स्टील को खरीदने की रेस में सज्जन जिंदल! रतन टाटा की कंपनी से चल रहा ये विवाद
2 PM Kisan: लाभार्थी किसान की मृत्यु के बाद भी परिवार को मिलती है रकम, जानिए स्कीम के नियम
3 दौलतमंद अरबपतियों की रैंकिंग में फिर लुढ़के टेस्ला के एलन मस्क, ये है अंबानी और अडानी का हाल
ये पढ़ा क्या?
X