ताज़ा खबर
 

अजीम प्रेमजी के बेटे रिशद प्रेमजी ने मजहब की दीवारें तोड़ अदिति से की थी शादी, विप्रो के चेयरमैन की है जिम्मेदारी

रिशद प्रेमजी भी अपने पिता अजीम प्रेमजी की तरह ही सादगी पसंद व्यक्ति रहे हैं। शायद यही वजह है कि उन्होंने बेहद सादे समारोह में अगस्त, 2005 में अदिति से शादी की थी।

azim premji rishad premjiअजीम प्रेमजी, यास्मीन प्रेमजी, रिशद प्रेमजी और अदिति (सोशल मीडिया से ली गई तस्वीर)

अकसर अपने सामाजिक कार्यों के लिए भी चर्चित रहने वाले आईटी सेक्टर के दिग्गज अजीम प्रेमजी की कंपनी विप्रो की कमान अब उनके बेटे रिशद प्रेमजी के हाथों में है। देश के युवा उद्यमियों में से एक रिशद प्रेमजी इससे पहले चीफ स्ट्रेटेजी ऑफिसर के तौर पर काम कर चुके हैं। इसके अलावा वह इन्वेस्टर रिलेशंस और सरकार से जुड़े मसलों को भी संभालते रहे हैं। यही नहीं 2018-19 में रिशद प्रेमजी के पास NASSCOM के चेयरमैन की भी जिम्मेदारी थी। हालांकि रिशद प्रेमजी के कारोबारी पहलुओं की अकसर चर्चा होती है, लेकिन उनकी निजी जिंदगी के बारे में कम ही बात होती है। रिशद प्रेमजी ने मजहब की दीवार को तोड़ते हुए अपनी बचपन की दोस्त अदिति से 2005 में शादी की थी।

रिशद प्रेमजी भी अपने पिता अजीम प्रेमजी की तरह ही सादगी पसंद व्यक्ति रहे हैं। शायद यही वजह है कि उन्होंने बेहद सादे समारोह में अगस्त, 2005 में अदिति से शादी की थी। हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से पढ़े रिशद प्रेमजी और अदिति के फिलहाल दो बच्चे हैं, रोहन और रिया। पढ़ने और म्यूजिक सुनने के बेहद शौकीन रिशद प्रेमजी विप्रो से जुड़ने से पहले अमेरिकी मैनेजमेंट कंसल्टेंसी कंपनी बेन ऐंड कंपनी से जुड़े थे।

कहा जाता है कि अजीम प्रेमजी ने अपने बच्चों को भी उन्हीं मूल्यों के तहत परवरिश की है, जिनमें वह यकीन करते रहे हैं। इसी से जुड़ा एक दिलचस्प वाकया यह भी है कि रिशद प्रेमजी जब लंदन में थे तो उन्हें पिता अजीम प्रेमजी से विप्रो के गेस्टहाउस में रुकने की अनुमति मांगी थी। लेकिन अजीम प्रेमजी ने यह कहते हुए उन्हें परमिशन देने से इनकार कर दिया था कि वह कंपनी की संपत्ति है।

विप्रो की वेबसाइट के मुताबिक रिशद अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के भी बोर्ड का हिस्सा हैं। अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के जरिए विप्रो ग्रुप सामाजिक कार्य करता है। यह फाउंडेशन देश में सरकारी स्कूलों की शिक्षा की बेहतरी के लिए काम करता रहा है। देश के 7 राज्यों में अजीम प्रेमजी फाउंडेशन 3,50,000 से ज्यादा सरकारी स्कूलों के साथ मिलकर काम कर रहा है। बता दें कि हाल ही में कोरोना संकट में योगदान देते हुए विप्रो और अजीम प्रेमजी फाउंडेशन ने 1125 करोड़ रुपये की डोनेशन दी थी।

रिशद प्रेमजी के छोटे भाई तारिक प्रेमजी भी अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के बोर्ड का हिस्सा हैं। 2018 में विप्रो इंटरप्राइजेज के बोर्ड में शामिल किया गया था। बेंगलुरु के सेंट जोसेफ कॉलेज से कॉमर्स ग्रैजुएट तारिक प्रेमजी भी आमतौर पर रिजर्व रहना ही पसंद करते हैं और मीडिया से दूर रहते हैं। 2015 में उद्योगपति जसजीत सिंह की बेटी नंदिनी सिंह से उनकी सगाई हुई थी, लेकिन कुछ कारणों से चंद महीनों बाद ही यह रिश्ता होते-होते टूट गया था।

Next Stories
1 भारतीय स्टेट बैंक ने ग्राहकों को दी हिदायत, ऐसे ईमेल से रहें हमेशा सावधान, खाली हो सकता है अकाउंट
2 फेसलेस इनकम टैक्स अपील की आज से हुई शुरुआत, जानें- टैक्सपेयर्स कैसे उठा सकते हैं फायदा
3 आत्मनिर्भर भारत अभियान की IMF ने की तारीफ, कहा- पैकेज ने भारतीय अर्थव्यवस्था को दिया सहारा
ये पढ़ा क्या?
X