ताज़ा खबर
 

मंदी से बाहर नहीं आ पा रहा ऑटो सेक्टर! Mahindra & Mahindra अब अधिकतम 17 दिन बंद रखेगा कारखाने

मंदी का असर सिर्फ महिंद्रा एंड महिंद्रा पर ही नहीं, अन्य बड़ी कार निर्माता कंपनियों पर भी पड़ा है। कंपनी ने कहा, ‘‘वाहनों का पर्याप्त भंडार होने की वजह से प्रबंधन को ऐसा नहीं लगता कि इससे बाजार में उसके वाहनों की उपलब्धता पर असर पड़ेगा।’’

Auto sector, slowdown in auto sector, Mahindra & Mahindra, weak demand, Mumbai, manufacturing plants, managing director, Pawan Goenka, job loss, GST cut, Maruti Suzuki, shut down operations,कंपनी के एमडी पवन गोयनका मांग नहीं बढ़ने पर पहले ही नौकरी जाने का अंदेशा व्यक्त कर चुके हैं। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

दिग्गज ऑटोमोबाइल कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा ने मौजूदा तिमाही में अपने वाहन कारखानों में आठ से 17 दिन तक उत्पादन बंद रखने की घोषणा की है। कंपनी ने शुक्रवार को कहा कि बिक्री का उत्पादन के साथ सामंजस्य रखने के लिए यह कदम उठा रही है। बता दें कि सरकार की कोशिशों के बावजूद वाहनों की बिक्री में कोई इजाफा नहीं हुआ है। डिमांड अभी भी कमजोर है और डीलर्स के पास काफी स्टॉक बचा हुआ है।

इससे पहले कंपनी ने अगस्त में कहा था कि वह जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान अपने विभिन्न कारखानों में उत्पादन 8 से 14 दिन तक बंद करेगी। इसका मतलब यह है कि कंपनी ने अब कारखानों को अतिरिक्त तीन दिन बंद रखने का फैसला किया है। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि उसने तिमाही के दौरान तीन दिन अतिरिक्त उत्पादन स्थगित रखने का फैसला किया है।

इससे पहले 9 अगस्त, 2019 को कंपनी ने विभिन्न कारखानों में उत्पादन 14 दिन तक बंद रखने की घोषणा की थी। घरेलू वाहन कंपनी ने इसके साथ ही कहा कि वह इस महीने के अंत तक कृषि उपकरण क्षेत्र में एक से तीन दिन तक उत्पादन बंद रखेगी। कंपनी ने कहा, ‘‘वाहनों का पर्याप्त भंडार होने की वजह से प्रबंधन को ऐसा नहीं लगता कि इससे बाजार में उसके वाहनों की उपलब्धता पर असर पड़ेगा।’’

इससे पहले इसी सप्ताह हिंदुजा समूह की प्रमुख कंपनी अशोक लेलैंड ने कमजोर मांग की वजह से अपने विभिन्न विनिर्माण कारखानों में उत्पादन 16 दिन तक बंद रखने की घोषणा की थी। बता दें कि कंपनी के एमडी पवन गोयनका ने कुछ दिन पहले चेतावनी दी थी कि अगर डिमांड में सुधार नहीं हुआ तो नौकरियां जा सकती हैं। गोयनका ने त्योहारों का सीजन शुरू होन से पहले जीएसटी में कटौती की भी मांग की थी ताकि डिमांड में इजाफा हो सके।

मंदी का असर सिर्फ महिंद्रा एंड महिंद्रा पर ही नहीं, अन्य बड़ी कार निर्माता कंपनियों पर भी पड़ा है। टाटा मोटर्स भी ऐलान कर चुकी है कि वह अपने पुणे स्थित प्लांट में सितंबर के पहले हफ्ते में कामकाज बंद रखेगी। वहीं, अप्रैल से जून की तिमाही में Maruti Suzuki, Toyota, Honda और Tata मोटर्स जैसी कंपनियों ने 7-18 प्रतिशत प्रोडक्शन में कमी की थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इंडिया सीमेंट के MD बोले, ‘बिना बात रोने वाला बच्चा बन गया है ऑटो सेक्टर, जीएसटी में नहीं देनी चाहिए छूट’
2 डेटा तेल नहीं है, इसे उत्‍पाद मत समझें- रिलायंस के मुकेश अंबानी को फेसबुक के निक क्‍लेग ने दिया जवाब
3 ऑटो हब पुणे में इंजीनियर बेचते हैं पान, अधिकांश सीवी लेकर कंपनियों के लगाते हैं चक्कर
IPL 2020 LIVE
X