ताज़ा खबर
 

ई-आयकर रिटर्न के लिए एटीएम आधारित वैधता सुविधा शुरू

एक वरिष्ठ आयकर अधिकारी ने कहा कि करदाता का जहां खाता है उस बैंक की ओर से आपकी एटीएम की पूर्व वैधता के जरिए इलेक्ट्रानिक सत्यापन कोड (ईवीसी) प्राप्त किया जा सकता है।

Author नई दिल्ली | June 5, 2016 3:41 AM
ATM Withdrawal, Fake Currency dispenses from ATM, RBI New Rule, FIR for Fake currency, reserve Bank Of India, Rule for Fake Currency, Indian Banksअब एटीएम से नकली नोट निकलने पर कराना होगा FIR (Fe PHOTO)

आयकर विभाग ने सालाना आयकर रिटर्न दाखिल करने के मामले में दस्तावेज रहित आॅनलाइन प्रणाली को बढ़ावा देने की योजना के हिस्से के तौर पर ई-आयकर रिटर्न के लिए एटीएम आधारित वैधता प्रणाली शुरू की है।

एक वरिष्ठ आयकर अधिकारी ने कहा कि करदाता का जहां खाता है उस बैंक की ओर से आपकी एटीएम की पूर्व वैधता के जरिए इलेक्ट्रानिक सत्यापन कोड (ईवीसी) प्राप्त किया जा सकता है। एसबीआइ ने शुक्रवार से यह सुविधा शुरू कर दी है जबकि अन्य बैंक जल्द ही इसका अनुसरण करेंगे। विभाग ने पिछले महीने उन लोगों के लिए, जिनके पास इंटरनेट बैंकिंग सुविधा नहीं है, बैंक खाता आधारित वैधता सुविधा की शुरुआत की है।

नई सुविधा विभाग की ई-फाइलिंग पोर्टल- इनकमटैक्सइंडियाईफाइलिंग डाट गव डाट इन पर उपलब्ध है और यह ओटीपी (एक बारगी पासवर्ड) जांच प्रणाली के उपयोग के जरिए काम करेगा जिसे विभाग ने पिछले साल आधार संख्या के जरिए शुरू किया था। इस पहलों का उपयोग ई-आयकर रिटर्न के लिए किया जा रहा है ताकि करदाताओं को अंतिम प्रक्रिया के तौर पर आरटीआर-वी के दस्तावेज बंगलुरु स्थित केंद्रीय प्रसंस्करण केंद्र (सीपीसी) को भेजने की जहमत नहीं उठानी पड़े।

आयकर विभाग इन सभी उपायों को इलेक्ट्रानिक तरीके से दाखिल की जाने वाली आइटीआर की वैधता सुनिश्चित करने के लिए कर रहा है ताकि ई-फाइलिंग के बाद करदाता को अंतिम निदान व प्रसंस्करण के लिए आइटीआर-वी को बंगलुरु स्थित केंद्रीय प्रसंस्करण केंद्र (सीपीसी) को डाक से भेजने की जरूरत नहीं होगी। नए आइटीआर फार्म हाल में अधिसूचित किए गए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 10,000 नए एलपीजी वितरक नियुक्त करेगी केंद्र सरकार
2 भारत को और ज्यादा विकसित अर्थव्यवस्था बनाने के लिए सुधारों को आगे बढ़ाएगी सरकार: अरुण जेटली
3 भारत को 8-10% सतत वृद्धि के लिए वैश्विक बाजारों पर काबिज होना होगा
ये पढ़ा क्या?
X