ताज़ा खबर
 

अरुण जेटली बोले, आंध्र प्रदेश के विशेष विकास पैकेज पर अमल जल्द

जेटली ने कहा कि केंद्र सरकार अकेले वित्त आयोग के जरिये अगले पांच साल में राज्य को 2.03 लाख करोड़ रुपए का अनुदान देगी।

Author अमरावती | October 28, 2016 8:44 PM
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली। (AP Photo/File)

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार (28 अक्टूबर) को कहा कि केंद्र सरकार की ओर से आंध्र प्रदेश के विकास के लिए लिए घोषित विशेष आर्थिक पैकेज को जल्दी अमल में लाने के लिए कदम उठाएगी। राज्य की नई राजधानी अमरावती में प्रशासनिक शहर की आधारशिला रखने के बाद एक जनसभा को संबोधित करते हुए जेटली ने कहा कि केंद्र सरकार अकेले वित्त आयोग के जरिये अगले पांच साल में राज्य को 2.03 लाख करोड़ रुपए का अनुदान देगी। उन्होंने कहा, ‘हम आंध्र प्रदेश को विभिन्न परियोजनाओं के लिए हजारों करोड़ रुपए दे रहे हैं। यह विशेष श्रेणी के राज्य के लिए अधिक नहीं है तो उसके बराबर जरूर है।’ केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा, ‘हैदराबाद को आधुनिक शहर बनाने का श्रेय चंद्रबाबू (मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू) को जाता है और अब आपको वही अवसर अमरावती में मिला है। मुझे विश्वास है कि अमरावती भारत में एक बेहतरीन शहर होगा।’ उन्होंने कहा कि इस काम में अब अकेले नहीं हैं और केंद्र सरकार आपका समर्थन करेगी।

अमरावती क्षेत्र में राजधानी के विकास के लिए किसानों द्वारा अपनी 33,000 एकड़ जमीन भूमि पूलिंग योजना के तहत दिए जाने को अभूतपूर्व बताते हुए जेटली ने कहा, ‘हम (आंध्र प्रदेश और केंद्र) उनमें से प्रत्येक के चेहरे पर मुस्कान लाएंगे।’ राजधानी क्षेत्र में विकसित जमीन की बिक्री पर पूंजी लाभ कर में छूट के राज्य सरकार के अनुरोध पर अरुण जेटली ने आश्वस्त किया, ‘वह सहानुभूतिपूर्वक इस पर विचार करेंगे और देखेंगे कि इस बारे में जल्दी निर्णय हो।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि वह केंद्र के राज्य को विशेष विकास पैकेज से सहमत हैं क्योंकि विशेष श्रेणी का दर्जा संभव नहीं है।’ इस मौके पर केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू, पी अशोक गजपति राजू, वाई एस चौधरी, राज्य विधानसभा के अध्यक्ष कोडेरा शिवप्रसाद राव, राज्य के मंत्री, सांसद, विधायक और अन्य लोग मौजूद थे। प्रशासनिक भवन के अलावा जेटली ने रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय तथा अन्य परियोजनओं की भी आधारशिला रखी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App