ताज़ा खबर
 

प्याज नहीं अब रुलाएगी दाल: खुदरा बाजार में अरहर अब 200 रुपए किलो

सरकार के आपूर्ति बढ़ाने और कीमतों पर लगाम लगाने के विभिन्न प्रयासों के बावजूद दालों की कीमतों में वृद्धि जारी है। खुदरा बाजार में तुअर दाल की कीमत 200 रुपए किलो तक पहुंच गई जिससे लोगों की समस्या बढ़ गई है। पिछले सप्ताह तुअर दाल खुदरा बाजार में 185 रुपए किलो तक उपलब्ध थी।

Author नई दिल्ली | October 20, 2015 8:59 AM
इस साल अरहर दाल की कीमतों में भारी उछाल रहा और भाव 200 रुपए प्रति किलो के पार चली गई।

सरकार के आपूर्ति बढ़ाने और कीमतों पर लगाम लगाने के विभिन्न प्रयासों के बावजूद दालों की कीमतों में वृद्धि जारी है। खुदरा बाजार में तुअर दाल की कीमत 200 रुपए किलो तक पहुंच गई जिससे लोगों की समस्या बढ़ गई है। पिछले सप्ताह तुअर दाल खुदरा बाजार में 185 रुपए किलो तक उपलब्ध थी।

घरेलू उत्पादन में कमी के कारण दालों की कीमतों में पिछले कुछ महीनों से वृद्धि जारी है। कमजोर और बेमौसम बारिश से घरेलू उत्पादन फसल वर्ष 2014-15 (जुलाई-जून) में करीब 20 लाख टन घटकर 1.72 करोड़ टन रही। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार तुअर (अरहर) का खुदरा मूल्य सोमवार को 200 रुपए किलो तक पहुंच गया जबकि पिछले साल इसी महीने में 85 रुपए किलो था। आंकड़ों के अनुसार पिछले पांच साल में खुदरा बाजार में तुअर दाल की कीमत 74 से 85 रुपए के आसपास बनी हुई थी।

हालांकि उड़द दाल की कीमत में एक सप्ताह के अंदर नरमी आई है और यह पिछले सप्ताह के 187 रुपए किलो के भाव के मुकाबले घट कर 170 रुपए किलो पर आ गई है। पर पिछले साल के मुकाबले यह कीमत भी करीब दो गुना है। पिछले साल इसी महीने दाल उड़द 98 रुपए किलो चल रही थी। सरकार ने घरेलू आपूर्ति बढ़ाने और कीमतों को काबू में करने के लिये आयात और जमाखोरी पर लगाम लगाने समेत कई उपाय किए हैं। लेकिन दोनों दालों की कीमत ऊंची बनी हुई है।

जमाखोरी पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने कल बिग बाजार जैसी बड़ी दुकानों, लाइसेंस प्राप्त खाद्य प्रसंस्करणकर्ताओं, आयातक और निर्यातकों के ऊपर भंडार सीमा लगा दी। व्यापारियों पर भंडार सीमा पहले से लागू है। इसके अलावा एमएमटीसी ने 5,000 तुअर दाल आयात किया है और 2000 टन अतिरिक्त आयात के लिए संशोधित निविदा जारी की है। साथ ही कंपनी आपूर्ति बढ़ाने के लिए विदेशों से दाल खरीदने को लेकर ताजा निविदा जारी करने पर विचार कर रही है।

केंद्र ने कीमतों में कमी लाने के लिये सभी राज्य सरकारों से एमएमटसी से सबसिडी वाली दाल लेने और अपने राज्यों में इसकी आपूर्ति करने को कहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App