scorecardresearch

अडानी ग्रुप की एक और कंपनी के निफ्टी में शामिल होने की तैयारी, 2.4 हजार करोड़ रुपए के शेयरों की होगी बिक्री

Adani Enterprises: 10 अगस्त को आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के एक नोट में कहा गया है कि निफ्टी 50 इंडेक्स के आगामी अर्धवार्षिक बदलाव के कारण 2400 करोड़ के शेयरों की बिक्री संभव है।

अडानी ग्रुप की एक और कंपनी के निफ्टी में शामिल होने की तैयारी, 2.4 हजार करोड़ रुपए के शेयरों की होगी बिक्री
अडानी ग्रुप की एक और कंपनी के निफ्टी में शामिल होने की उम्‍मीद (फोटो- Express Archive)

आगामी Nifty50 इंडेक्स में फेरबदल हो सकती है और इसमें अडानी ग्रुप की एक और कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) निफ्टी में शामिल हो सकती है, जो श्री सीमेंट की जगह लेगी। 10 अगस्त को आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के एक नोट में कहा गया है कि निफ्टी 50 इंडेक्स के आगामी अर्धवार्षिक बदलाव के कारण 2400 करोड़ के शेयरों की बिक्री संभव है।

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के एक शोध विश्लेषक विनोद कारकी के अनुसार, Nifty50 इंडेक्स में बदलाव की संभावना बहुत ज्‍यादा है। इस बड़े बदलाव से श्री सीमेंट (Shree Cement) में बिकावली पैदा होगी और इसके 630 करोड़ रुपए के शेयरों की बिक्री संभव है। वहीं उन्‍होंने बताया कि अडानी एंटरप्राइजेज में 1,760 करोड रुपए के शेयरों की खरीदारी होगी।

बदले हुए निफ्टी 50 की घोषणा अगस्‍त माह के दौरान किया जाएगा, जो 30 सितंबर से लागू किया जाएगा। इस बदलाव के लिए फरवरी से जुलाई 2020 की अवधि के एवरेज फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन को आधार बनाया जाएगा। फेरबदल के बाद, सूचकांक का FY22 P/E 0.9 प्रतिशत बढ़कर 24.3 गुना हो जाएगा और FY22 इक्विटी पर रिटर्न मामूली रूप से 3 आधार अंक घटकर 14.69 प्रतिशत हो जाएगा।

बता दें कि कि मार्च 2022 में हुए पिछले बदलाव में Apollo Hospital ने निफ्टी 50 इंडेक्स में Indian Oil की जगह ली थी और Indian Oil निफ्टी 50 इंडेक्स से बाहर हो गया था। निफ्टी 50 में शामिल करने के लिए प्रमुख आवश्यकताओं में यह है कि कंपनी निफ्टी 100 का हिस्सा होनी चाहिए, वायदा और विकल्प (एफएंडओ) बाजार में कारोबार किया जाना चाहिए, और औसत फ्री-फ्लोट बाजार पूंजीकरण सबसे छोटे घटक का कम से कम 1.5 गुना होना चाहिए।

नोट में कहा गया है कि 1.7 लाख करोड़ रुपये के मौजूदा निफ्टी ईटीएफ परिसंपत्ति प्रबंधन (एयूएम) के आधार पर, एचडीएफसी विलय से संबंधित सूचकांक में बदलाव के परिणामस्वरूप जुलाई 2022 के अंत-मूल्यों के आधार पर 48,000 करोड़ रुपए से अधिक के शेयरों की खरीद और बिक्री हो सकती है। वहीं सकारकी का कहना है कि सेंसेक्स ईटीएफ में भी 88,000 करोड़ रुपए का एयूएम है और इसी तरह की कार्रवाई देखने को मिल सकती है। हालांकि, एचडीएफसी जुड़वाओं के संबंध में कोई कार्रवाई की संभावना विलय के शेयरधारकों की मंजूरी मिलने के बाद ही हो सकती है।

पढें व्यापार (Business News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट