ताज़ा खबर
 

खत्म नहीं हो रहीं अनिल अंबानी की मुश्किलें, अब एक और कंपनी होगी दिवालिया

रिलयांस मरीन रिलायंस नवल की सहायक कंपनी है। कंपनी पर करीब 1000 करोड़ का कर्ज है।

anil ambani stock prices,anil ambani reliance naval,anil ambani reliance marine,anil ambani networth,anil ambani bankruptcy,Anil Ambani, ADAGअनिल अंबानी। फोटो: फाइनेंशियल एक्सप्रेस

साल 2019 उद्योगपति अनिल अंबानी के लिए अब तक कुछ खास नहीं रहा है। अनिल अंबानी की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही अब उनकी एक और कंपनी दिवालिया घोषित हो सकती है। इकोनॉमिक्स टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक अनिल अंबानी की कंपनी ‘रिलायंस मरीन’ को दिवालिया घोषित करने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

रिलायंस मरीन रिलायंस नवल की सहायक कंपनी है। कंपनी पर करीब 1000 करोड़ का कर्ज है। कंपनी को यह रकम एनबीएफसी और आईएफसीआई जैसी सरकारी फर्म को चुकानी है। इन फर्म ने ही 2017 में रिलायंस मरीन के खिलाफ दिवालिया याचिका दायर की थी जिसे अब स्वीकार कर लिया गया है। रिलायंस मरीन रिलायंस कम्युनिकेशंस के दिवालिया होने के बाद अनिल धीरूभाई अंबानी समूह (ADAG) की दूसरी कंपनी है जो दिवालिया होने की कगार पर खड़ी है।

हाल ही में रिलायंस कम्यूनिकेशंस दिवालिया घोषित किया जा चुका है। कंपनी 46,000 करोड़ रुपए का भुगतान करने में असमर्थ थी। ऐसी खबरें हैं कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी अपने छोटे भाई अनिल अंबानी की दिवालिया हो चुकी कंपनी रिलायंस कम्यूनिकेशंस को खरीदने की योजना बना रहे हैं। रिलायंस कम्यूनिकेशंस को दिवालिया कानून के तहत नीलाम किया जा रहा है। जिसके लिए मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने इसे खरीदने में रुचि दिखाई है।

कंपनी जल्द ही रिलायंस कम्यूनिकेशंस की नीलामी प्रक्रिया में शामिल हो सकती है। रिलायंस कम्यूनिकेशंस का सौदा मुकेश अंबानी के लिए इसलिए भी अहम है, क्योंकि रिलायंस के बंटवारे से पहले मुकेश अंबानी टेलीकॉम बिजनेस में उतरना चाहते थे, लेकिन बंटवारे के बाद रिलायंस कम्यूनिकेशंस अनिल अंबानी के हिस्से में चली गई थी। अब कुछ साल पहले मुकेश अंबानी रिलायंस जियो के साथ टेलीकॉम बिजनेस में दस्तक दी है और आते ही इस क्षेत्र के बड़े खिलाड़ी बन गए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Economic Slowdown: 6% भी नहीं रह गई अर्थव्यवस्था की रफ्तार, चीन से भी पिछड़ा भारत!
2 Air India की हालत बेहद पतली! पूरी 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच सकती है मोदी सरकार!
3 Amazon vs Reliance: मुकेश अंबानी और दुनिया के सबसे अमीर शख्स के बीच टक्कर, खुदरा किराना बाजार बनेगा जंग का मैदान!