ताज़ा खबर
 

बिकने वाली है डिफेंस में सक्रिय अनिल अंबानी की कंपनी, जानिए कौन लोग देख रहे हैं कारोबार

अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड (RNEL) के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में कुल 5 लोग शामिल हैं।

anil ambani, reliance, reliance infraअनिल अंबानी (Photo-PTI )

Reliance Naval and Engineering: कर्ज में डूबे अनिल अंबानी की कई कंपनियां बिक्री की प्रक्रिया से गुजर रही हैं। इन्हीं में से एक रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड (RNEL) भी शामिल है। डिफेंस सेक्टर में सक्रिय अनिल अंबानी की इस कंपनी पर 11,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया ​है। बहरहाल, आइए जानते हैं कि इस कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में कौन लोग शामिल हैं।

कंपनी में कौन-कौन शामिलः अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड (RNEL) के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में कुल 5 लोग शामिल हैं। इनमें से एक रणजीत लाहिरी स्वतंत्र निदेशक के पद पर हैं। देहरादून से पढ़ाई करने वाले रणजीत लाहिरी की उम्र 70 साल है। उनके पास लॉजिस्टिक्स, सप्लाई चेन मैनेजमेंट और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट में 40 साल का अनुभव है। इसी तरह, सीईओ के तौर पर देबाशीष बीर हैं। 63 साल के देबाशीष बीर ने कलकत्ता विश्वविद्यालय में स्नातक की डिग्री ली है।

उन्होंने खड़गपुर आईआईटी से नेवल आर्किटेक्चर की पढ़ाई की है। अनिल अंबानी की टीम में पंकज पंड्या भी हैं। पंकज के पास पावर इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर की डिग्री है। वह लॉ ग्रेजुएट भी हैं और कंप्यूटर मैनेजमेंट में डिप्लोमा रखते हैं। बोर्ड ऑफ मेंबर्स में वेंकट रचकोंडा भी हैं। 54 साल के वेंकट ने एमबीए की पढ़ाई की है।

आयात-निर्यात, सीमा शुल्क और विदेश व्यापार नीतियों के क्षेत्र में उनके पास 25 वर्षों का समृद्ध अनुभव है। वह दिसंबर 2003 से रिलायंस समूह से जुड़े हुए हैं। बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शिबी जॉबी भी शामिल हैं। वह अगस्त 2005 से रिलायंस समूह के साथ जुड़ी हुई हैं। (ये पढ़ें-कर्ज देती थी अनिल अंबानी की ये दो कंपनियां, फिर कारोबार समेटने की आ गई नौबत)

कंपनी के बारे मेंः रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड की पैरंट कंपनी रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर है। RNEL का पहले नाम रिलायंस डिफेंस एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड था। अनिल अंबानी के रिलायंस समूह ने 2015 में पिपावाव डिफेंस एंड ऑफशोर इंजीनियरिंग लिमिटेड का अधिग्रहण किया। बाद में इसका नाम बदलकर रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड (RNEL) कर दिया गया।

बीते दिनों मीडिया में ऐसी खबरें आईं थी कि रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड को खरीदने वालों की रेस में नवीन जिंदल के स्वामित्व वाला JSPL समूह भी है। खरीदने की रेस में नवीन जिंदल की कंपनी के अलावा रूस सरकार के स्वामित्व वाले यूनाइटेड शिपबिल्डिंग कॉरपोरेशन और यूएस-आधारित फंड, इंटरअप भी शामिल हैं। (ये पढ़ें-अडानी संभाल रहे हैं अंबानी का कारोबार)

Next Stories
1 रतन टाटा ने लगाया इस कंपनी पर दांव, दो महीने के भीतर दूसरा बड़ा निवेश
2 COVID-19: गुजरात के इस रिफाइनरी में ऑक्सीजन बना रही रिलायंस, जानिए यहां की खास बातें
3 LIC को प्रीमियम से हुई रिकॉर्ड कमाई, अब इस तरह सरकार जुटाएगी 1 लाख करोड़ रुपये!
ये पढ़ा क्या?
X