ताज़ा खबर
 

कारोबार में पिछड़े तो अध्यात्म की राह पर बढ़ रहे अनिल अंबानी, कभी थे दुनिया के छठे सबसे अमीर शख्स, आज जीरो है नेटवर्थ

ब्रिटेन में एक मुकदमे की सुनवाई के दौरान अपनी नेटवर्थ जीरो बताने वाले अनिल अंबानी इन दिनों अध्यात्म में रुचि ले रहे हैं। 2008 में देश के तीसरे और दुनिया के छठे सबसे अमीर शख्स अनिल अंबानी इन दिनों तीर्थ स्थानों पर देखे जाते हैं।

anil ambaniअध्यात्म की राह पर बढ़ रहे अनिल अंबानी (फाइल फोटो)

देश के दिग्गज कारोबारी धीरूभाई अंबानी के रिलायंस साम्राज्य का 2004 में जब उनके बेटों मुकेश और अनिल अंबानी के बीच बंटवारा हुआ तो दोनों बराबर के कारोबार के मालिक थे। मुकेश अंबानी के हिस्से पेट्रोकेमिकल्स से जुड़ा बिजनेस आया तो अनिल अंबानी को टेलिकॉम, पावर और फाइनेंस का कारोबार मिला। एक समय में मुकेश और खुद को दो शरीर और एक दिमाग बताने वाले अनिल अंबानी की बड़े भाई संग ऐसी कारोबारी प्रतिद्वंद्विता हुई, जो अब जाकर खत्म होती दिख रही है। जब अनिल अंबानी कारोबार के मामले में पूरी तरह डूब चुके हैं और मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर शख्स के तौर पर शिखर पर हैं।

पिछले दिनों ब्रिटेन में एक मुकदमे की सुनवाई के दौरान अपनी नेटवर्थ जीरो बताने वाले अनिल अंबानी इन दिनों अध्यात्म में रुचि ले रहे हैं। 2008 में देश के तीसरे और दुनिया के छठे सबसे अमीर शख्स अनिल अंबानी इन दिनों तीर्थ स्थानों पर देखे जाते हैं। अनिल अंबानी के करीबियों के हवाले से ब्लूमबर्ग ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि वह अपनी मां के साथ काफी हिंदू तीर्थस्थलों पर जाते हैं और प्रार्थनाएं करते हैं। यही नहीं उनका कहना है कि आध्यात्मिक पूर्णता के सामने उन्हें कारोबारी सफलता ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं लगती।

दिवालिया घोषित होने से बच रहे अनिल अंबानी: हालांकि अब भी वह कर्ज में डूबी अपनी कंपनियों को बचाने के लिए हर दिन कम से कम 14 घंटे तक काम करते हैं। उनके करीबियों के मुताबिक अनिल अंबानी को सलाह दी गई थी कि वे खुद को दिवालिया घोषित करें और संकट से बचें, लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया। उनका कहना था कि एक बार दिवालिया घोषित होने के बाद वापसी मुश्किल होगी।

मुकेश अंबानी ने 6 वीक में की 6 बड़ी डील: एक तरफ अनिल अंबानी खुद को दिवालिया होने से बचाने की कोशिश में हैं तो कभी बराबर के हिस्सेदार रहे मुकेश अंबानी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड को पूरी तरह से कर्जमुक्त करने की राह पर हैं। लॉकडाउन में भी अपनी टेलिकॉम कंपनी रिलायंस जियो में मुकेश अंबानी फेसबुक समेत 6 दिग्गज टेक कंपनियों से करीब 70,000 करोड़ रुपये का निवेश हासिल कर चुके हैं। इसके अलावा राइट्स इश्यू के जरिए कंपनी 53,125 करोड़ रुपए की रकम जुटा चुकी है। दरअसल मुकेश अंबानी रिलायंस जियो के जरिए ग्रुप के कोर बिजनेस को तेल की बजाय डिजिटल की ओर लाने की तैयारी में हैं।

शुरू से कारोबार पर ही फोकस करते मुकेश अंबानी: मुकेश अंबानी का हमेशा ही कारोबार पर फोकस रहा है। फैमिली के करीबी सूत्रों के मुताबिक मुकेश अंबानी हमेशा ही सादगी से रहते थे, हालांकि कभी-कभार उनकी शाम हिंदी सिनेमा की पुरानी फिल्मों को देखते हुए बीतती थी। वहीं अनिल अंबानी को हमेशा ही बन-ठन कर और चर्चा में रहना पसंद था। वह मुंबई की किसी भी पार्टी का हिस्सा आसानी से बन जाते थे और अकसर बॉलिवुड हस्तियों के बीच बैठते थे। यही नहीं दोनों भाईयों के बीच यह अंतर शादी में भी दिखा। मुकेश अंबानी ने परिवार के मुताबिक ही विवाह रचाया, जबकि अनिल अंबानी ने जब ऐक्ट्रेस टीना मुनीम से शादी की तो पिता धीरूभाई अंबानी ने इस पर सार्वजनिक तौर पर नाराजगी जताई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 देश की 72 फीसदी MSME ने कहा, बिना छंटनी के नहीं टलेगा संकट, कॉरपोरेट सेक्टर में भी बड़े पैमाने पर नौकरियां जाने के संकेत
2 केंद्र ने SC में कहा, लॉकडाउन में सैलरी कंपनी और कर्मचारी का मसला, पहले दिया था पूरे वेतन का आदेश
3 लोन पर ब्याज में नहीं दे सकते छूट, SC में RBI ने कहा, बैंकों की बिगड़ जाएगी सेहत, 2 लाख करोड़ रुपये का होगा नुकसान
IPL 2020 LIVE
X