ताज़ा खबर
 

ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग: झारखंड और हरियाणा से भी पिछड़ा गुजरात, आंध्र प्रदेश फिर टॉप पर

2016 में तेलंगाना और आंध्रप्रदेश संयुक्त रूप से इंडेक्स में अव्वल आए थे। ये राज्य पहली बार गुजरात से ऊपर थे। पीएम नरेंद्र मोदी का होम टाउन गुजरात 2015 में नंबर वन था।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

आंध्र प्रदेश को व्यापार के लिए सबसे आसान कारोबार वाले राज्यों की रैंकिंग में पहला स्थान दिया गया है। दरअसल मंगलवार को भारत सरकार ने ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग की घोषणा की। इस सूची में आंध्र प्रदेश के बाद उसके पड़ोसी राज्य तेलंगाना को दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है। वहीं हरियाणा तीसरे तो झारखंड और गुजरात क्रमश: चौथे और पांचवे पायदान पर है। ये रैंकिंग भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ इंडस्ट्रियल पॉलिसी और प्रोमोशन(DIPP) ने जारी की है। ईज ऑफ डुइंग बिजनेस वाली लिस्ट में आंध्र प्रदेश को कुल 98.42 अंक मिले हैं।

पिछले साल DIPP ने 372 सुधारों की लिस्ट बनाई थी। इनको कुल 12 क्षेत्रों में बांटा गया था। इन सुधारों को पूरी तरह लागू करने वाले राज्यों को अंक दिए गए। सबसे ज्यादा अंक पाने वाले राज्य लिस्ट में ऊपर हैं। इस सूची में झारखंड को कुल 97.99 फीसदी अंक मिले जबकि गुजरात को 97.96 फीसदी अंक मिले। लिस्ट में छत्तीसगढ़ छठे, मध्यप्रदेश सातवें और कर्नाटक आठवें स्थान पर रहा। राजस्थान को सूची में 95.68 अंक के साथ नौंवा स्थान मिला। सूची में पश्चिम बंगाल 10वें, उत्तराखंड 11वें, उत्तरप्रदेश 12वें, महाराष्ट्र 13वे, उड़ीसा 14वे और तमिलनाडु 15वे स्थान पर रहा।

बता दें कि ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग शुरू करने की सबसे बड़ी वजह यह है कि सरकार राज्यों में एक प्रतियोगिता चाहती थी। सरकार चाहती थी कि बिजनेस के लिए बेहतर माहौल मुहैया कराने में राज्य एक दूसरे से होड़ करें। इसके अलावा इन रैंकिंग से यह भी पता चलता है कि जो सुधार केंद्र लागू करता है उसे राज्य अपना कर बिजनेस हासिल कर सकते हैं। 2016 में तेलंगाना और आंध्रप्रदेश संयुक्त रूप से इंडेक्स में अव्वल आए थे। ये राज्य पहली बार गुजरात से ऊपर थे। पीएम नरेंद्र मोदी का होम टाउन गुजरात 2015 में नंबर वन था।

इस रिपोर्ट के कुछ दिनों के बाद वर्ल्ड बैंक की एनुअल ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट, 2017 आने वाली है। पिछले साल भारत ईज ऑफ डुइंग बिजनेस में 30 पायदान ऊपर 100 पर पहुंच गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App