ताज़ा खबर
 

एमवे और नेस्ले उत्पादन मानकों का कर रहे हैं उल्लंघन: केंद्र सरकार

एमवे इंडिया और नेस्ले इंडिया ऐसी खाद्य सामग्री उत्पादन कंपनियों में शामिल हैं जिन्हें नियमों और विनिर्माण मानकों का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है..

Author Published on: August 8, 2015 6:45 AM

एमवे इंडिया और नेस्ले इंडिया ऐसी खाद्य सामग्री उत्पादन कंपनियों में शामिल हैं जिन्हें नियमों और विनिर्माण मानकों का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है। इसके चलते उनके उत्पादों को बाजार से हटाया गया या उन्हें दिए गए अनापत्ति प्रमाणपत्रों को वापस ले लिया गया।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री जे पी नड्डा ने लोकसभा में यह जानकारी देते हुए बताया, ‘‘खाद्य सामग्री कारोबार करने वाली ऐसी कंपनियों को जिन्हें नियमों और विनिर्माण मानकों का उल्लंघन करते पाया गया है और जिनसे अपने उत्पादों को बाजार से वापस बुलाने को कहा गया उनमें एमवे इंडिया एंटरप्राइेजेस (न्यूट्रिलाइट कैल मैग डी, न्यूट्रिलाइट बी टेबलेट, न्यूट्रिलाइट आयरन फोलिक ऐसिड टेबलेट, न्यूट्रिलाइट बायो सी, पोइट्रियम वनीला और न्यूट्रिलाइट किड्स ड्रिंक विद फ्रूट फ्लेवर) शामिल हैं।’’

उन्होंने बताया कि मोंस्टर एनर्जी इंडिया, पुष्पम फूड्स, हेक्टर बेवरेजिज, ओकवारोमा कंपनी , नेस्ले इंडिया, बैरी कैलेबाउट इंडिया और जगदाले इंडस्ट्रीज को मानकों का उल्लंघन करते हुए पाया गया।

नड्डा ने बताया कि इन कंपनियों को जारी किए गए अनापत्ति प्रमाणपत्रों को वापस ले लिया गया है और अपने खाद्य उत्पादों को बाजार से वापस मंगाने को कहा गया है। उन्होंने बताया कि इन उत्पादों की सूची एफएसएसएआई की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

उन्होंने बताया कि कैबिनेट ने उपभोक्ता संरक्षण विधेयक 2015 को अपनी मंजूरी दे दी है। नए विधेयक में एक केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण की स्थापना का प्रावधान किया गया है जिसे जांच करने और असुरक्षित पाए जाने वाले उत्पादों को वापस मंगाने का अधिकार होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories