जानिए अमेरिका की वाल्टन फ़ैमिली ने कैसे किया था अकूत संपत्ति का बंटवारा, उसी तर्ज पर करना चाहते हैं रिलायंस के मुकेश अंबानी!

वॉलमार्ट के संस्थापक सैम वॉल्टन ने अपने निधन से 40 वर्ष पूर्व 1953 में ही उत्तराधिकार की तैयारी शरू कर दी थी, जो उनके चार बेटों एलाइस, रॉब, जिम और जॉन में बंटी।

Reliance, Mukesh Ambani, Nita Ambani,
मुकेश अंबानी सैम वॉल्टन की तर्ज पर अपनी विरासत का बंटवारा दो बेटे, बेटी और पत्नी के बीच कर सकते हैं। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

देश के सबसे मशहूर उद्योगपतियों में शुमार मुकेश अंबानी का ध्यान अपनी विरासत को बच्चों में बाटंने पर लगा हुआ है। इसके लिए उन्होंने दुनिया की टॉप बिजनेस फैमली में हुए बंटवारे के फॉर्मूलों का अध्ययन करना शुरू कर दिया है। वॉलमार्ट की संस्थापक फैमलि वॉल्टन से लेकर कोच परिवार के फॉर्मूलों पर रिलायंस के चैयरमैन मुकेश अंबानी विचार कर रहे है। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार मुकेश अंबानी को वॉल्टन फैमली के बंटवारे का फॉर्मूला सबसे ज्यादा पसंद आया है। जिसकी तर्ज पर मुकेश अंबानी भविष्य में अपनी विरासत का बंटवारा कर सकते हैं।

वॉल्टन फैमली ने ऐसे किया था बंटवारा – वॉलमार्ट के संस्थापक सैम वॉल्टन ने अपने जीवित रहते 1988 में डेविड ग्लास को कंपनी का CEO बना दिया था। उससे पहले वही कंपनी के CEO हुआ करते थे। दुनिया के इस सबसे अमीर परिवार ने खुद को बोर्ड तक सीमित कर लिया और बाकी ऑपरेशन प्रोफेशनल्स के हवाले कर दिए जाएंगे। वॉलमार्ट के बोर्ड में सैम के बेटे रॉब और भतीजे स्टुअर्ट को भी शामिल किया गया। साथ ही उनकी पोती के पति ग्रेग पेनर को 2015 में अरकांसस स्थित कंपनी बेंटोनविल्ले का चेयरमैन बनाया गया।

हालांकि, इसके लिए इस परिवार की आलोचना भी हुई थी कि, अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके वो शेयरधारकों से ऊपर खुद ही सारे पद ले रहे हैं। लेकिन, इस परिवार के कई अन्य सदस्यों को वॉलमार्ट से अलग फिलैंथ्रॉपी और अन्य कंपनियों में पद दिए गए। उन्हें निवेश की जिम्मेदारी सौंपी गई। सैम ने अपने निधन से 40 वर्ष पूर्व 1953 में ही उत्तराधिकार की तैयारी शरू कर दी थी, जो उनके चार बेटों एलाइस, रॉब, जिम और जॉन में बंटी। अब भी ये परिवार वॉलमार्ट का 47% हिस्सा अपने पास रखे हुए है।

इसी तर्ज पर रिलायंस में हो सकता है बंटवारा – मुकेश अंबानी सैम वॉल्टन की तर्ज पर अपनी विरासत का बंटवारा दो बेटे, बेटी और पत्नी के बीच कर सकते हैं। ब्लूमबर्ग में छपी रिपोर्ट के अनुसार मुकेश अंबानी को वॉल्टन परिवार का फॉर्मूला ज्यादा पसंद आया है। कहा जा रहा है कि मुकेश अंबानी अपने परिवार की संपत्तियों को एक ट्रस्ट की तरह संस्था बना कर संचालन का दायित्व देने की योजना पर काम कर रहे हैं, जो रिलायंस ग्रुप का भी प्रबंधन करेगी। बता दें कि आधिकारिक रूप से कहीं से इस बारे में कुछ भी नहीं कहा गया है।

यह भी पढ़ें: बंटवारे के बाद बढ़ता गया मुकेश अंबानी का रसूख, जानें कैसे बड़े भाई से पिछड़ते गए अनिल अंबानी

कुछ ऐसा हो सकता है रिलायंस का स्वरूप – मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मुकेश अंबानी की योजना है कि, नई संस्था में उनकी और पत्नी नीता अंबानी, दोनों बेटे और बेटी की हिस्सेदारी हो। साथ ही इसमें कंपनी के विश्वसनीय सलाहकार भी शामिल किए जा सकते हैं। इसके अलावा कंपनी का प्रबंधन और कारोबार बाहरी प्रोफेशनल ही संभालें। जिसमें परिवार का कोई दखल न हो। आपको बता दें रिलायंस आज रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल से लेकर टेलीकम्युनिकेशन, ई-कॉमर्स और ग्रीन एनर्जी तक के बिजनेस में काम कर रही है।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट