ताज़ा खबर
 

कॉल ड्रॉप के मोर्चे पर बड़ी-बड़ी कंपनियां फेल, जानें कहां किस नेटवर्क ने किया सबसे ज्यादा परेशान

सभी प्रमुख दूरसंचार कंपनियां जून-सितंबर, 2018 के दौरान सेवाओं की गुणवत्ता के मानकों पर खरी नहीं उतरीं।

Author नई दिल्ली | January 10, 2019 9:50 AM
ट्राई की रिपोर्ट में सामने आया कि सभी प्रमुख दूरसंचार कंपनियां जून-सितंबर, 2018 के दौरान सेवाओं की गुणवत्ता के मानकों पर खरी नहीं उतरीं।

सभी प्रमुख दूरसंचार कंपनियां जून-सितंबर, 2018 के दौरान सेवाओं की गुणवत्ता के मानकों पर खरी नहीं उतरीं। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) की बुधवार को जारी रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। रिपोर्ट के अनुसार कुछ दूरसंचार र्सिकलों में इस अवधि के दौरान आइडिया सेल्युलर और वोडाफोन के नेटवर्क पर कॉल ड्रॉप (बात करते करते कॉल कटना) की ऊंची रही। मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश (पश्चिम) में आइडिया कॉल ड्रॉप मानकों को पूरा करने में विफल रही। वहीं वोडाफोन नेटवर्क उत्तर प्रदेश (पूर्व) और उत्तर प्रदेश (पश्चिम) र्सिकलों में इस मानदंड को पूरा नहीं कर पाई।

हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर में मोबाइल टावर या साइटों में खराबी की वजह से आइडिया के नेटवर्क पर कॉल ड्रॉप गुणवत्ता मानकों से अधिक रहीं। पश्चिम बंगाल में मोबाइल टावर समस्या की वजह से सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल कॉल ड्रॉप मानकों को पूरा करने में विफल रही।
आइडिया असम और पूर्वोत्तर तथा बीएसएनएल पश्चिम बंगाल में कॉल ड्रॉप मानकों को पूरा करने में विफल रहीं।

राजस्थान में रिलायंस जियो और बीएसएनएलन के नेटवर्क पर दबाव अधिक होने की वजह से कॉल कनेक्ट करने में विलंब हुआ। भारती एयरटेल के साथ हालांकि नेटवर्क से संबंधित गुणवत्ता का मुद्दा सामने नहीं आया लेकिन वह बिहार, कर्नाटक और कोलकाता में अपने कॉल सेंटर या ग्राहक सेवा केंद्र तक पहुंच उपलब्ध कराने के मानदंड को पूरा नहीं कर पाई। टाटा टेलीर्सिवसेज अपने परिचालन वाले ज्यादातर र्सिकलों में कॉल सेंटर पहुंच के गुणवत्ता मानकों को पूरा करने में विफल रही। टाटा टेली अपने कारोबार का एयरटेल में विलय करने की प्रक्रिया में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App