ताज़ा खबर
 

KK Modi Group: पिता की मौत के तीन महीने बाद ही फैमिली बिजनेस बेच रहे हैं ललित मोदी, मां बीना मोदी से है विवाद

ग्रुप के संस्थापक और ललित मोदी के पिता केके मोदी का 2 नवंबर, 2019 को ही निधन हुआ था। उनकी मौत के महज 3 महीने बाद ही उनके कारोबारी साम्राज्य का बड़ा हिस्सा बिकने जा रहा है।

अपने पिता के कारोबार को बेचने का ललित मोदी ने किया ऐलान (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

देश के नामी कारोबारी घराने के.के मोदी ग्रुप की पूरी संपत्ति बिक सकती है। जी हां, इस बात की पुष्टि खुद के.के मोदी के बेटे ललित मोदी ने की है। ग्रुप के संस्थापक और ललित मोदी के पिता केके मोदी का 2 नवंबर, 2019 को ही निधन हुआ था। उनकी मौत के महज 3 महीने बाद ही उनके कारोबारी साम्राज्य का बड़ा हिस्सा बिकने जा रहा है।

एक के बाद एक कई ट्वीट कर ललित मोदी ने कहा कि सिगरेट निर्माता कंपनी गॉडफ्रे फिलिप्स में ग्रुप की हिस्सेदारी समेत के.के. मोदी समूह का पूरा बिजनेस बिक रहा है। दरअसल मां बीना मोदी के गॉडफ्रे फिलिप्स इंडिया लिमिटेड के चेयरपर्सन के तौर पर चुने जाने के बाद से ही ललित मोदी नाराज चल रहे थे।

मां-बेटे के झगड़े में बिकेगी संपत्ति: ललित मोदी और उनकी मां बीना के बीच विवाद चल रहा है। ललित मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘…केके मोदी ग्रुप की सभी संपत्तियां बेची जाएंगी। मेरा मतलब है सभी। अन्य तीन ट्रस्टी कारोबार चलाना चाहते थे, लेकिन मुझे लगता है कि मेरे पिता के गुजरने के बाद वैल्यू गिरेगी। मेरा मत बिक्री के पक्ष में रहा।’

मां, भाई और बहन कारोबार में बने रहेंगे: बता दें कि मार्लबोरो सिगरनेट की निर्मात कंपनी गॉडफ्रे फिलिप्स में केके मोदी ग्रुप की 47.09 फीसदी की हिस्सेदारी है, जबकि फिलिप मॉरिस का कंपनी में 25.1 फीसदी हिस्सा है। दरअसल ललित मोदी अपने पिता केके मोदी के कारोबारी साम्राज्य में से खुद को मिली पूरी हिस्सेदारी बेच रहे हैं। उनके अलावा मां बीना मोदी, भाई समीर मोदी और बहन चारू के नियंत्रण वाले कारोबार चलते रहेंगे। इन तीनों के पास कलरबार, बिकॉन ट्रैवल्स और तमाम शैक्षणिक संस्थानों का नियंत्रण है।

2010 से लंदन में रह रहे हैं ललित मोदी: आईपीएल की शुरुआत करने वाले उसके पहले कमिश्नर रहे ललित मोदी 2010 से ही लंदन में रह रहे हैं। आईपीएल में आर्थिक अनियमितता के चलते एजेंसियां उनके खिलाफ जांच कर रही हैं, जिससे बचने के चलते वह ब्रिटेन में हैं।

बोर्ड ने नहीं मानी थी ललित मोदी की बात: दरअसल ललित मोदी सिगरेट निर्माता कंपनी गॉडफ्रे फिलिप्स के बोर्ड में मां बीना मोदी को शामिल किए जाने का विरोध किया था। लेकिन डायरेक्टर्स ने उनके विरोध को खारिज करते हुए बीना मोदी को शामिल करने का फैसला लिया।

ललित के दादा गूजरमल मोदी ने बसाया था मोदीनगर: ललित मोदी के दादा गूजरमल मोदी ने ही मोदी ग्रुप की स्थापना की थी। उनकी 8 संतानों में से एक ललित मोदी के पिता केके मोदी थे। गूजरमल मोदी ने ही उत्तर प्रदेश में मेरठ के पास मोदीनगर शहर को बसाया था। एक शुगर मिल की स्थापना के जरिए गूजरमल मोदी ने अपने भाई केदारनाथ मोदी के साथ मिलकर कारोबार की शुरुआत की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Union Budget 2020: ये 50 आयातित चीजें बजट के बाद हो जाएंगी महंगी
2 Union Budget 2020: PM नरेंद्र मोदी के इन खास अधिकारियों ने तैयार किया है आम बजट, जानें- किसे क्या मिली जिम्मेदारी
3 Maruti Suzuki ने नए साल में दिया झटका! 4.7% तक बढ़ा दिए गाड़ियों के दाम
ये पढ़ा क्या?
X