ताज़ा खबर
 

राक्षस नहीं हैं एअरलाइन कंपनियां: राजू

हवाई किरायों में मनमानी वृद्धि को लेकर बढ़ती चिंता के बीच नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने गुरुवार को कहा कि हो सकता है कि एअरलाइन कंपनियां परियां नहीं हों लेकिन निश्चित तौर पर वे राक्षस भी नहीं हैं।

Author नई दिल्ली | June 24, 2016 4:45 AM
नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू

हवाई किरायों में मनमानी वृद्धि को लेकर बढ़ती चिंता के बीच नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने गुरुवार को कहा कि हो सकता है कि एअरलाइन कंपनियां परियां नहीं हों लेकिन निश्चित तौर पर वे राक्षस भी नहीं हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि हद से ज्यादा हवाई किरायों से निपटने का कोई आसान समाधान नहीं हो सकता। वे किरायों की सीमा तय किए जाने के विचार को त्याग चुके हैं क्योंकि इससे न्यूनतम किरायों में बढ़ोत्तरी होगी।

हवाई यात्रा के लिए किराया सीमा तय करने की मांग के खिलाफ अडिग रहते हुए उन्होंने कहा कि पिछले साल एक विश्लेषण किया गया। जिसमें यह बात सामने आई कि मात्र 1.7 फीसद टिकटों को ही ऊंचे किराए पर बेचा जाता है। हवाई किरायों की सीमा तय किए जाने के एक सवाल पर उन्होंने कहा कि अधिकतम और न्यूनतम सीमा तय किया जाना रोचक है। लेकिन हमें ऐसी स्थिति में नहीं पड़ना चाहिए जहां 1.7 फीसद यात्रियों को फायदा पहुंचाने के लिए 90 फीसद यात्रियों के लिए किराए को बढ़ा दिया जाए।

राजू ने इस बात पर जोर दिया कि चेन्नई और श्रीनगर में बाढ़ संकट के दौरान एअरलाइन कंपनियों ने हवाई किराए को तर्कसंगत स्तर पर रखा और सरकार का मकसद भी यही सुनिश्चित करना चाहिए है कि हवाई यात्रा किराया तर्कसंगत दायरे में रहे। वे (एअरलाइन) हो सकता है कि परियां नहीं हों लेकिन निश्चित रूप से राक्षस भी नहीं हैं। हमें उनके साथ काम करके ऊंचे किरायों के मामले में एक समाधान खोजने की जरूरत है। ये वे समस्याएं हैं जिनका अपने आप कोई आसान समाधान नहीं हो सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App