ताज़ा खबर
 

राष्‍ट्रपति के हस्‍ताक्षर करते ही कानून बना GST बिल, सबकुछ रहा ठीक तो 1 अप्रैल 2017 से होगा लागू

इससे पहले बुधवार को जीएसटी को लागू कराने को सरकार की शीर्ष प्राथमिकता बताते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भरोसा जताया था कि इस अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था के लागू हाने पर टैक्स की दरें घटेंगी।
Author नई दिल्ली | September 8, 2016 17:04 pm
राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने GST बिल पर हस्ताक्षर कर दिया है, जिसके बाद यह बिल अब कानून बन गया है।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के हस्ताक्षर के साथ ही ‘वस्तु एवं सेवा कर’ यानी जीएसटी अब कानून बन गया है। राष्ट्रपति ने संसद और 15 राज्य सरकारों द्वारा जीएसटी को पारित किए जाने के बाद आज इस पर हस्ताक्षर कर दिया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा स्वीकृति प्रदान किए जाने के बाद संविधान संशोधन विधेयक को अधिसूचित किया जाएगा। केंद्र सरकार द्वारा अलग-अलग राज्यों में लगने वाले मूल्य वर्धित कर (वैट) और कई अन्य तरह के स्थानीय करों को एक सिंगल कर प्रणाली के अंतर्गत लाने के लिए जीएसटी बिल लाया गया था।

इससे पहले बुधवार को जीएसटी को लागू कराने को सरकार की शीर्ष प्राथमिकता बताते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भरोसा जताया था कि इस अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था के लागू हाने पर टैक्स की दरें घटेंगी। वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) को अगले साल अप्रैल से लागू कराने के सवाल पर वित्त मंत्री ने कहा, ‘हम आगे बढ़ रहे हैं, यह बेहद मुश्किल लक्ष्य है, हमारे पास समय कम है। मैं निश्चित तौर पर इसकी कोशिश करूंगा।’ उन्होंने कहा, ‘जीएसटी आने वाले दिनों में शायद कर की दर स्थिर करेगा और इसके प्रभावी तरीके से लागू होने पर इसमें टैक्स की दरों में कमी आएगी।’

Read Also: मुकेश अंबानी ने बताई जियो के ऐड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर इस्तेमाल करने की वजह

उन्होंने जीएसटी को लागू करने को अपनी शीर्ष प्राथमिकता बताई थी। इसके अतिरिक्त अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए जेटली ने सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों को ढर्रे पर लाना और अटकी पड़ी परियोजनाएं को शुरू कराने को अपनी स्पष्ट प्राथमिकताएं बताया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.