ताज़ा खबर
 

गौतम अडानी खरीदने जा रहे हैं दिवालिया कंपनी,  जानिए क्‍या हैं आर्सेलर मित्तल से संबंध

अडानी पॉवर बीते पांच कारोबारी सप्‍ताह में 18 फीसदी से ज्‍यादा की गिरावट देखने को मिल चुकी है। जिसकी वजह से पांच दिनों में कंपनी मार्केट कैप करीब 13 हजार करोड़ रुपए कम हो गया है। उसके बाद भी गौतम अडानी एक ऐसी कंपनी को खरीदने जा रहे है जो दिवालिया प्रक्रि‍या से गुजर रही है।

अडानी को दौलत के मामले में चीन के झोंग शानशान ने पछाड़ा है (Photo-PTI)

अडानी पॉवर मध्य प्रदेश के सिंगरौली में दिवालिया प्रक्रि‍या से गुजर रही एस्सार पॉवर की 1,200 मेगावाट (मेगावाट) थर्मल पॉवर प्रोजेक्‍ट के लिए एक सफल बोलीदाता के रूप में उभरी है। अडानी पॉवर ने खुलासा किया है कि यह सूचित किया जाता है कि एस्सार पॉवर एमपी की लेनदारों की समिति (सीओसी) ने अडानी पॉवर द्वारा प्रस्तुत समाधान योजना को मंजूरी दे दी है। आईसीआईसीआई बैंक की अगुवाई वाली सीओसी और रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल आशीष छावछरिया अब कोयला आधारित बिजली परियोजना के अधिग्रहण के लिए गौतम अडानी के नियंत्रण वाली बिजली कंपनी की योजना के लिए दिवाला न्यायाधिकरण की मंजूरी मांगेंगे।

उद्योग के सूत्रों के मुताबिक अडानी पॉवर ने इस साल मार्च में कर्ज में डूबी कंपनी के अधिग्रहण के लिए करीब 2,600 करोड़ रुपए की पेशकश की थी। कर्जदाताओं ने अडानी को इस ऑफर को मीठा बनाने के लिए कहा था। स्वीकृत प्रस्ताव को स्वतंत्र रूप से सुनिश्चित नहीं किया जा सका। एस्सार पॉवर (74 फीसदी और आर्सेलर मित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया (तत्कालीन एस्सार स्टील इंडिया 26 फीयदी ) द्वारा प्रवर्तित एस्सार पॉवर एमपी को पिछले साल सितंबर में दिवालियापन के लिए एडमिट कराया गया था। आईसीआईसीआई बैंक ने मार्च 2020 तक 1,923 करोड़ रुपए के डिफॉल्‍ट पर फर्म को दिवालियापन न्यायाधिकरण में खींच लिया था।

लेनदारों द्वारा किए गए 20,200 करोड़ रुपए से अधिक के दावों में से कुल 12,723 करोड़ रुपए न्यायाधिकरण के समक्ष स्वीकार किए गए। आईसीआईसीआई बैंक के अलावा, अन्य वित्तीय उधारदाताओं में आरईसी लिमिटेड, पावर फाइनेंशियल कॉरपोरेशन, पंजाब नेशनल बैंक और एडलवाइस एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी (एआरसी) शामिल हैं।

अडानी पॉवर, विविध अदानी समूह का हिस्सा है, जो भारत में सबसे बड़ा निजी ताप विद्युत उत्पादक है। कंपनी के पास गुजरात में 40 मेगावाट सौर ऊर्जा संयंत्र के अलावा गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में छह बिजली संयंत्रों में फैले 12,410 मेगावाट की एक स्थापित थर्मल पावर क्षमता है, इसकी वेबसाइट कहती है। इसके 7,000 मेगावाट से अधिक क्षमता के बिजली उत्पादन संयंत्र बनाने की प्रक्रिया में हैं। पिछले साल दिसंबर में, न्यू यॉर्क में सूचीबद्ध एईएस कॉर्प से ओडिशा पावर जनरेशन कॉर्प में 49 फीसदी हिस्सेदारी हासिल करने की अडानी की योजना सौदे के बाद विफल हो गई थी।

Next Stories
1 IPO से पहले ग्रोफर्स के मैनेजमेंट में उथलपुथल, Amazon से अंबानी के JioMart तक को देती है टक्कर
2 अडानी ही नहीं, रामदेव के लिए भी भारी रहा सप्ताह, निवेशकों की डूबी बड़ी रकम
3 बाबा रामदेव की कंपनी पर है करीब 3400 करोड़ रुपए का कर्ज, जानिए किन लोगों की है गांरंटी
ये पढ़ा क्या?
X