ताज़ा खबर
 

रिपोर्ट: अडानी समूह के पास हैं सोलर क्षेत्र के सबसे ज्‍यादा प्रोजेक्‍ट, दो साल पहले ही इस क्षेत्र में रखा था कदम

अडानी समूह के मुखिया गौतम अडानी कॉलेज ड्रॉप-आउट थे, वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाते हैं।
अडानी समूह के चेयरमैन और अरबपति कारोबारी गौतम अडानी। (फाइल फोटो)

महज दो साल पहले सोलर क्षेत्र में कदम रखने वाले अडानी समूह के पास अब देश की सबसे बड़ी सोलर प्रोजेक्‍ट पाइपलाइन है। मरकॉम कैपिटल ग्रुप की हालिया रिपोर्ट ‘इंडिया सोलर क्‍वार्टली मार्केट अपडेट’ के मुताबिक, भारत में बड़े पैमाने पर प्रोजेक्‍ट विकास बिखरा हुआ है। मगर देश बड़े समूहों और निजी इक्विटी के खिलाड़ि‍यों के बोलबाले वाले इस क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। अडानी समूह ने सिर्फ दो साल पहले ही सोलर सेक्‍टर में कदम रखा था। अडानी समूह के मुखिया गौतम अडानी कॉलेज ड्रॉप-आउट थे, वह गुजरात के थारंद से आते हैं। अडानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाते हैं। आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने दोनों की मिलीभगत का कई बार आरोप लगाया है। लगभग 11 प्रतिशत मार्केट शेयर के साथ अडानी समूह के पास देश में सबसे ज्‍यादा प्रोजेक्‍ट हैं। इसके बाद वायु और सौर ऊर्जा कंपनी रिन्‍यू पावर का नंबर आता है जिसका मार्केट शेयर करीब 10 फीसदी है। जल्‍द ही अधिगृहीत होने वाली सनएडिसन के पास लगभग 8.5 प्रतिशत, ACME के पास लगभग 8 प्रतिशत, अजूरे के पास करीब 5 प्रतिशत, टाटा पावर के पास 3.8 फीसदी की हिस्‍सेदारी है।

वर्तमान में चल रहे 80 फीसदी प्रोजेक्‍ट्स ऐसे ही टॉप-20 कंपनियों के पास हैं। बहुत ज्‍यादा प्रतिस्‍पर्धा वाली रिवर्स नीलामी और कम मार्जिन वाले इस क्षेत्र में, तगड़ी बैलेंस शीट और कम दरों पर वित्तपोषण पाने की क्षमता वाले बड़े समूह, निजी इक्विटी समर्थित फर्मों और विदेशों में सस्‍ते निवेश तक पहुंच वाली अंतर्राष्‍ट्रीय कंपनियों का बोलबाला है। छोटी कंपनियां के लिए वित्‍त, कम बोली और बड़े प्राेजेक्‍ट्स की तरफ बनती नीतियों के चलते विकास कर पाना संघर्षपूर्ण हो जाता है।

READ ALSO: जमाखोर अपनी दाल बाज़ार में निकाल दे वरना घाटे में रहेंगे, इस बार अच्छी पैदावार: राम विलास पासवान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.