ताज़ा खबर
 

रेलवे का नया नियम, ट्रेन टिकट में छूट पाने के लिए जरूरी होगा आधार कार्ड

जहां 1 जनवरी से 31 मार्च 2017 तक सिनियर सिटिजन को रेलवे टिकट में छूट पाने के लिए आधारकार्ड दिखाना स्वैच्छा पर आधारित होगा, वहीं 1 अप्रैल के बाद इसे दिखाना अनिवार्य होगा।

रेलवे के नए नियम के मुताबिक, अब सीनियर सिटिजन को ट्रेन टिकट में छूट पाने के लिए आधार कार्ड दिखाना जरूरी होगा। यह नियम 1 अप्रैल 2017 से अनिवार्य हो जाएगा, जिसके तहत सिनियर सिटीजन का रेलवे टिकट सीधे तौर पर आधार कार्ड या यूनीक आइडेंटिफिकेशन (UID) से लिंक होगा और काउंटर व ऑनलाइन टिकट लेते समय आधारकार्ड दिखाना अनिवार्य होगा। हालांकि जनवरी से मार्च तक यह नियम विकल्प के तौर पर ही मौजूद है।

रेलवे मंत्रालय ने इससे जुड़ा नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। रेलवे मंत्रालय ने आधारकार्ड आधारित टिकट सिस्टम दो फेज में लागू करने का फैसला किया है। पहले चरण में वरिष्ठ नागरिक, स्वतंत्रता सैनानी, विकलांग, जैसी आरक्षित उम्मीदवारों के लिए आधार कार्ड अनिवार्य किया जाएगा। वहीं, दूसरे चरण में सभी सर्विसेस को आधार कार्ड से लिंक किया जाएगा और सभी रेल टिकट बुकिंग के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य कर दिया जाएगा।

31 मार्च तक है छूट:

नियम के मुताबिक, जहां 1 जनवरी से 31 मार्च 2017 तक सिनियर सिटिजन को रेलवे टिकट में छूट पाने के लिए आधारकार्ड दिखाना स्वैच्छा पर आधारित होगा, वहीं 1 अप्रैल के बाद इसे दिखाना अनिवार्य होगा। यदि एक अप्रैल के बाद कोई सीनियर सिटिजन आधार कार्ड नंबर नहीं देता है तो उसे टिकेट तो मिलेगी लेकिन उसे किराए में मिलने वाली 50 फीसदी की छूट नहीं दी जाएगी। आईआरसीटीसी चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर एके मनोचा ने कहा, “भारतीय रेलवे नेटवर्क में आधारकार्ड आधारित सिस्टम को लाने के लिए यह काफी महत्वकांक्षी फैसला है। इसके बाद सिनियर सिटिजन के नाम पर टिकटों की कालाबाजारी पर रोक लग पाएगी। भविष्य में सभी टिकट बुकिंग के लिए आधारकार्ड अनिवार्य किया जा सकता है।”

सिनियर सिटिजन के लिए आधार कार्ड का एडवांस वैरिफिकेशन पहले ही शुरू कर दिया गया है। इसके तहत 1 दिसंबर के बाद से 31 दिसंबर के बीच इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (IRCTC) की वेबसाइट या रिजर्वेशन ऑफिस जाकर आधार कार्ड की डीटेल सब्मिट कराई जा सकती हैं। एक बार पैसेजर रिजर्वेशन सिस्टम (पीआरएस) में यात्री का आधार कार्ड दर्ज हो गया तो भविष्य में उसे बार-बार रिजर्वेशन फार्म भरने से झंझट से मुक्ति मिल जाएगी। इस व्यवस्था में यात्री अनगिनत टिकट बुक करा सकेंगे। वहीं, इससे रेल टिकटों की दलाली पर भी पूरी तरह से अंकुश लगेगा।

वीडियो में देखिए, तेज रफ्तार ट्रेन ने ले ली तीन हाथियों की जान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App