ताज़ा खबर
 

अरबों की कंपनी खड़ी कर दी लेकिन अलग हो गए या बाहर कर दिए गए! ऐसी हैं ये 8 हस्तियां

बीते हफ्ते अपने 55वें जन्मदिन पर जैक मा ने अलीबाबा के एग्जीक्यूटिव चेयरमैन का पद छोड़ दिया। जैक मा का कहना है कि अब वह शिक्षा और परोपकार के कामों में ध्यान लगाना चाहते हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: September 16, 2019 2:26 PM
जैक मा, स्टीव जॉब्स और बिल गेट्स। (फाइल फोटो)

ऐसा कम ही देखने को मिलता है कि किसी व्यक्ति ने कंपनी बनायी और फिर उसे सफलता के शिखर पर पहुंचकर कंपनी को अलविदा कह दिया हो। आइए जानते हैं, ऐसी ही 8 हस्तियों के बारे में, जिन्होंने अरबों रुपए की कंपनी खड़ी कर खुद को उससे अलग कर लिया या फिर कंपनी द्वारा ही उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया हो।

जैक माः दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के एग्जीक्यूटिव चेयरमैन रहे जैक मा ने इस कंपनी की शुरुआत की थी। यह जैक मा का ही दिमाग था, जिसने अलीबाबा को बुलंदियों के शिखर पर पहुंचाया। लेकिन बीते हफ्ते अपने 55वें जन्मदिन पर जैक मा ने अलीबाबा के एग्जीक्यूटिव चेयरमैन का पद छोड़ दिया। जैक मा का कहना है कि अब वह शिक्षा और परोपकार के कामों में ध्यान लगाना चाहते हैं।

बिल गेट्सः तकनीक की सिरमौर कंपनियों में गिनी जाने वाली माइक्रोसॉफ्ट को बिल गेट्स ने अपनी दक्षता के दम पर खड़ा किया था। इस कंपनी की सफलता ने ही उन्हें दुनिया का सबसे अमीर बिजनेसमैन बनाया था। लेकिन साल 2000 में सिर्फ 44 साल की उम्र में बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ का पद छोड़ दिया था। इसके 14 साल बाद बिल गेट्स ने कंपनी के बोर्ड चेयरमैन का पद भी छोड़ दिया था। फिलहाल बिल गेट्स अपनी पत्नी मेलिंडा गेट्स के साथ मिलकर बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन का संचालन करते हैं, जो कि दुनियाभर के कई देशों में परोपकार और समाज कल्याण के कामों में शामिल है।

स्टीव जॉब्सः स्टीव जॉब्स ने कुछ अन्य लोगों के साथ मिलकर मशहूर तकनीकी कंपनी Apple की शुरुआत की थी। लेकिन साल 1985 में उन्हें ही कंपनी के सीईओ पद से हटा दिया गया था। इसके बाद स्टीव जॉब्स ने NeXT नामक एक अन्य कंपनी शुरू की, जिसे 1997 में एप्पल द्वारा खरीद लिया गया था। इसके बाद स्टीव जॉब्स फिर से एप्पल के सीईओ बने थे। साल 2011 में स्टीव जॉब्स का देहांत हो गया था।

माइक लिजार्डिसः मशहूर ब्लैकबेरी फोन का निर्माण करने वाली कंपनी रिसर्च इन मोशन के को-फाउंडर माइक लिजार्डिस ने साल 2013 में कंपनी छोड़ दी थी। लिजार्डिस ने साल 1984 में इस कंपनी की शुरुआत की थी। बाद में लिजार्डिस ने इन्वेस्टमेंट फंड की शुरुआत की।

जैक डोर्सीः मशहूर माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर की शुरुआत के पीछे जैक डोर्सी का ही आइडिया था। हालांकि साल 2008 में जैक डोर्सी अपने कामकाज के तरीकों के चलते कंपनी के सीईओ पद से हट गए थे। साल 2015 में डोर्सी ने फिर से कंपनी के सीईओ पद पर वापसी की और अभी तक वह इस पद पर काबिज हैं।

माइक पिंकसः मोबाइल सोशल गेमिंग कंपनी Zynga के संस्थापक माइक पिंकस ने साल 2014 में खुद को कंपनी के कामकाज से अलग कर लिया था। हालांकि इसके एक साल बाद पिंकस ने कंपनी के सीईओ डॉन मैट्रिक के पद छोड़ने के बाद फिर से कंपनी में सीईओ पद पर वापसी की थी, लेकिन इसके एक साल बाद पिंकस ने फिर से कंपनी को अलविदा कह दिया था।

ट्रेविस कालानिकः टैक्सी सेवा प्रदाता कंपनी Uber की शुरुआत साल 2009 में ट्रेविस कालानिक द्वारा की गई थी। लेकिन इसके 8 साल बाद यानि कि साल 2017 में ही कालानिक को कुछ विवादों के चलते सीईओ पद से हटा दिया गया था।

ब्रेंडन इीचः तकनीक की बड़ी कंपनियों में शुमार Mozilla Corporation की शुरुआत साल 2002 में हुई थी। ब्रेंडन इीच इस कंपनी के सह-संस्थापक रहे हैं। साल 2014 में समान लिंग शादी के बारे में दिए गए उनके बयान पर काफी हंगामा हुआ, जिसके बाद उन्हें कंपनी के सीईओ पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 AMUL अब पेश करेगा 10 और 5 रुपये तक के छोटे डेयरी प्रोडक्ट पैक! जानें क्या है प्लान
2 बिजली वितरण कंपनियों पर करोड़ो का बकाया, हरियाणा और राजस्थान की स्थिति सबसे खराब
3 सुस्त अर्थव्यवस्था: सरकार ने झोंक डाले 70 हजार करोड़, कई अर्थशास्त्री बोले- नहीं पड़ेगा कोई असर