7th Pay Commission: कोरोना से जान गंवाने वाले इन सरकारी कर्मियों के परिजन मुआवजे के लिए कर सकते हैं अप्लाई

कोरोना के चलते जान गंवाने वाले आम लोगों के लिए 50-50 हजार रुपये की राहत का प्रावधान किया गया है। इस महामारी में जान गंवाने वाले केंद्रीय कर्मियों के परिजनों को मिलने वाले एकमुश्त मुआवजे को लेकर कुछ बदलाव हुए हैं।

Corona Compensation
कोरोना से जान गंवाने वाले आम लोगों के परिजनों के लिए भी 50-50 हजार की सहायता राशि का प्रावधान है। Source: Indian Express/Kamleshwar Singh

7th Pay Commission news: कोरोना महामारी के चलते जान गंवाने वाले सरकारी कर्मियों और आम लोगों के परिजन आर्थिक राहत (Compensation) पाने के लिए अप्लाई कर सकते हैं। जिन कर्मियों की मौत ड्यूटी के दौरान हुई है, उनके परिजनों को मिलने वाले एकमुश्त मुआवजे (Ex Gratia) से जुड़े नियमों में कुछ बदलाव किए गए हैं।

केंद्रीय कर्मियों के नॉमिनी को ही मिलेगा लाभ

पेंशन एंड पेंशनर्स वेलफेयर के पेंशन विभाग ने इसे लेकर एक ऑफिस मेमोरंडम (OM) अधिसूचित किया है। इसके अनुसार, ड्यूटी के दौरान जिन केंद्रीय कर्मचारियों की मौत हुई है, उनके परिवार के उसी सदस्य को एकमुश्त मुआवजे का लाभ मिलेगा, जिसे कर्मचारी ने नॉमिनी बनाया था। यदि कर्मचारी ने एक से अधिक सदस्यों को नॉमिनी बनाया था, तो ऐसी स्थिति में सभी नॉमिनी को एकमुश्त मुआवजे में हिस्सा मिलेगा। हालांकि यदि परिवार के बाहर के किसी सदस्य को नॉमिनी बनाया गया है तो उसे एकमुश्त मुआवजे का लाभ नहीं मिलेगा।

यह लाभ उन केंद्रीय कर्मचारियों के परिजनों को भी मिलेगा, जिन्होंने कोरोना के चलते जान गंवा दी। इसके अलावा कोरोना के चलते जान गंवाने वाले आम लोगों के परिजन भी 50 हजार रुपये तक के मुआवजे के लिए अप्लाई कर सकते हैं। यह मुआवजा राज्य आपदा राहत कोष से दिए जाने का प्रावधान किया गया है।

अब तक नहीं थी नॉमिनी की बाध्यता

नए ऑफिस मेमोरंडम से जो प्रमुख बदलाव हुआ है, वह है कि अब तक इस मामले में नॉमिनी वाली बाध्यता नहीं थी। इस मेमोरंडम के बाद अब मुआवजा परिवार के उसी सदस्य या सदस्यों को मिलेगा, जिन्हें कर्मचारी ने अपने सर्विस के दौरान नॉमिनी बनाया था। अभी तक जो निर्देश था, उसमें यह स्पष्ट नहीं था कि कर्मचारी के मरने के बाद इस मुआवजे का भुगतान परिवार के किस सदस्य को किया जाएगा। इसलिए अभी तक सीसीएस (एक्स्ट्राऑर्डिनरी पेंशन) रूल्स 1939 के तहत परिवार के जो सदस्य एक्स्ट्राऑर्डिनरी फैमिली पेंशन के लिए पात्र हैं, उन्हें मुआवजे का भुगतान कर दिया जाता था।

परिवार के बाहर के नॉमिनी को नहीं मिलेगा लाभ

इस नए बदलाव के लिए कॉमन नॉमिनेशन फॉर्म में संशोधन किया गया है। मेमोरेंडम में यह भी कहा गया है कि इस मामले में सिर्फ परिवार के सदस्य को ही नॉमिनी बनाया जा सकता है। मुआवजे की रकम के लिए परिवार के बाहर के किसी बाहरी को नॉमिनी नहीं बनाया जा सकता है। अगर कर्मचारी मुआवजे के लिए किसी को नॉमिनी नहीं बनाता है, तो ऐसी स्थिति में मुआवजा परिवार के सभी पात्र सदस्यों में बराबर-बराबर बांट दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: बाबा रामदेव को महंगा पड़ा करोड़पति बनने का मंत्र, रुचि सोया पर यह बोलकर खा गए सेबी से डांट

कोरोना से जान गंवाने वाले आम लोगों के परिजनों को 50-50 हजार

कोरोना से आम लोगों की हुई मौत के मामले में मुआवजे को लेकर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने निर्देश जारी किया है। इसके तहत मृतक के परिजनों कोराज्य आपदा राहत कोष से 50-50 हजार रुपये का मुआवजा मिलेगा। हालांकि इसके लिए मृतक के परिजनों को स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुरूप कोविड-19 से मौत होने का प्रमाणपत्र बनवाना होगा। यदि प्रमाणपत्र में मौत का कारण कोरोना के बजाय कुछ अन्य बता दिया गया, तब मृतक के परिजन इसका लाभ नहीं उठा सकेंगे।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट