ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission: पूरी सर्विस से रिटायर होने के बाद सैन्यकर्मियों को मिलने वाली दिव्यांगता पेंशन पर अब लगेगा टैक्स

7th Pay Commission, 7th CPC Latest News Today 2019, 7th Pay Commission Latest Hindi News: वित्त मंत्रालय ने 24 जून को एक परिपत्र जारी कर इसकी जानकारी दी।

Author नई दिल्ली | June 25, 2019 9:26 PM
7th Pay Commission: तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

7th Pay Commission, 7th CPC Latest News Today 2019, 7th Pay Commission Latest Hindi News: पूरी सर्विस से रिटायर होने के बाद सैन्यकर्मियों को मिलने वाली दिव्यांगता पेशंन पर अब टैक्स लगेगा। इसके साथ ही दिव्यांगता पेंशन पर उन्हें कर मुक्त किया जाएगा जो सर्विस के दौरान दिव्यांगता की वजह से रिटायर हुए थे। वित्त मंत्रालय ने एक परिपत्र जारी कर इसकी जानकारी दी।

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) द्वारा 24 जून को जारी एक परिपत्र में स्पष्ट किया गया है कि विकलांगता पेंशन के लिए कर में छूट केवल सशस्त्र बलों के उन्हीं कर्मियों को दी जाएगी जो शारीरिक विकलांगता के कारण सेवा से अमान्य कर दिए गए हैं। जबकि पूरी सर्विस से रिटायर होने के बाद सैन्यकर्मियों को मिलने वाली दिव्यांगता पेंशन पर अब टैक्स लगेगा।’

पेंशन के मौजूदा नियम के मुताबिक पूर्ण सेवा के बाद सेवानिवृत्त होने वाले एक कर्नल रैंक के अधिकारी को लगभग 1,02,000 रुपये प्रति माह पेंशन मिलती है। जबकि एक अफसर नौकरी में रहते हुए विकलांग हो जाता है तो मेडिकल बोर्ड के तय किए गए पर्सेंटेज सिस्टम के अनुसार उनको ग्रेड किया जाता है। और इसी के आधार पर पेंशन तय की जाती है।

सरकार के इस फैसले पर सैन्यकर्मियों के बीच नाराजगी है। एक कर्मी ने ‘द प्रिंट’ से बातचीत में कहा कि ‘यह सरकार की एक नई चाल है इससे पहले कभी दिव्यांगता पेंशन पर कर नहीं लगाया गया था।’ एक  अन्य सेवारत अधिकारी ने बताया ‘यह बिल्कुल बेतुका है। कोई भी खुद को अक्षम देखना पसंद नहीं करता। जो राष्ट्र की सेवा करते हुए विकलांगता हो गया हो उसपर विकलांगता पेंशन पर टैक्स लगाया जाना घाव में नमक रगड़ने के समान है।’

बता दें कि मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में रक्षा मंत्रालय ने सैन्यकर्मियों के लिए दिव्यांगता पेशंन को न्यूनतम प्रति माह 18 हजार रुपए कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App