ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission: मेडिकल लीव में केंद्रीय कर्मचारियों को बड़ी राहत, 50 से ज्यादा उम्र वालों को 4 अप्रैल तक बिना सर्टिफिकेट छुट्टी

7th Pay Commission: सरकार ने 50 साल से अधिक उम्र के कर्मचारियों को सरकार ने क्वैरेंटाइन में जाने की अनुमति देते हुए 15 दिनों की छुट्टी की मंजूरी दी है। इसके लिए उन्हें मेडिकल सर्टिफिकेट नहीं पेश करना होगा।

medical leaveप्रतीकात्मक तस्वीर

7th Pay Commission, 7th CPC Latest News Today 2020: कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे को देखते हुए केंद्रीय कर्मचारियों को सरकार ने बड़ी राहत दी है। 50 साल से अधिक उम्र के कर्मचारियों को सरकार ने क्वैरेंटाइन में जाने की अनुमति देते हुए 15 दिनों की छुट्टी की मंजूरी दी है। इसके लिए उन्हें मेडिकल सर्टिफिकेट नहीं पेश करना होगा। यह सुविधा 50 साल से ज्यादा उम्र वाले उन कर्मचारियों को मिलेगी, जो डायबिटीज, सांस की बीमारी और अन्य गंभीर समस्याओं से पीड़ित हैं। 20 मार्च को कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग की ओर से यह आदेश जारी किया गया है।

सरकार ने कर्मचारियों को यह राहत देने के लिए केंद्रीय नागरिक सेवाएं (छुट्टी) नियम, 1972 में ढील दी है। कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग ने अपने आदेश में 50 साल से अधिक आयु वाले कर्मचारियों को छुट्टी पर जाने की सलाह देते हुए कहा है कि ऐसा करने से स्वास्थ्य सेवाओं पर अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ेगा। जारी किए गए मेमोरेंडम के मुताबिक सभी केंद्रीय मंत्रालयों, विभागों और तमाम केंद्र सरकार के कार्यालयों पर यह आदेश लागू होगा।

बता दें कि कोरोना वायरस के मद्देनजर केंद्र सरकार ने ‘ख’ और ‘ग’ वर्ग के 50 फीसदी कर्मचारियों को घर से काम करने का आदेश दिया है। इसके अलावा बाकी कर्मचारी रोजाना दफ्तर आएंगे। इसके अलावा सरकार ने वर्किंग आवर्स में भी बदलाव के संकेत दिए थे। कंसल्टेंट के तौर पर काम करने वाले सभी कर्मचारियों को केंद्र सरकार की ओर से वर्क फ्रॉम होम का आदेश दे दिया गया है।

कर्मचारियों पर यह आदेश चार अप्रैल तक लागू रहेगा। वहीं जो कर्मचारी कोरोना वायरस से जुड़े किसी कार्य में लगे हुए हैं उन पर यह रोस्टर लागू नहीं होता है। वह अपना कार्य जारी रख सकते हैं। चार अप्रैल के बाद केंद्रीय कर्मचारियों के वर्क फ्रॉम होम और वर्किंग आवर्स को लेकर फैसला किया जाएगा। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते एम्स अस्पताल ने भी ओपीडी बंद कर दी है। पहले से तय सर्जरी आदि के काम भी रोक दिए गए हैं। एम्स और सफदरजंग समेत सभी बड़े अस्पतालों को सिर्फ कोरोना के मरीजों के इलाज के लिहाज से तैयार किया जा रहा है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आधार-PAN लिंक, ITR फाइल करने की तारीख 30 जून तक बढ़ी, एटीएम चार्ज भी हुए माफ, कोरोना संकट में सरकार ने किए राहत के ये ऐलान
2 डेढ़ साल तक के लॉकडाउन में गरीबों को मुफ्त खाना खिला सकता है भारत, जानें- कितना है राशन का भंडार
3 मुकेश अंबानी की दौलत तीन महीनों में आधी, फिर भी बना रहे कोरोना पीड़ितों के लिए 100 बेड का अस्पताल
IPL 2020
X