ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission: भत्ते क्लियर! इन कर्मियों को एक्सट्रा मिलेंगे 5,000 से 20,000 रुपए तक जल्द

7th Pay Commission, 7th CPC Latest News Today 2019, 7th Pay Commission Latest Hindi News: बोर्ड ने इसके साथ ही यह भी स्पष्ट किया है कि ये भत्ते 2017 से इन कर्मचारियों को दिए जाएंगे। हालांकि, ऐसा सभी कर्मियों के लिए मान्य नहीं होगा।

Author नई दिल्ली | July 22, 2019 8:29 AM
7th Pay Commission: तस्वीक का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

7th Pay Commission, 7th CPC Latest News Today 2019, 7th Pay Commission Latest Hindi News: सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के तहत भारतीय रेल के कर्मचारियों को बड़ा तोहफा मिला है। दरअसल, रेल मंत्रालय ने न सिर्फ अधिकारियों बल्कि बाकी कर्मचारियों को मिलने वाले भत्तों के लिए हरी झंडी दे दी है। रेलवे बोर्ड द्वारा जारी एक अधिसूचना के मुताबिक, ऐसे में इन कर्मचारियों को सालाना आय के साथ आगामी दिनों में पांच हजार रुपए से 20,000 रुपए तक अतिरिक्त दिए जाएंगे।

अधिसूचना के अनुसार, मंत्रालय ने सातवें वेतन आयोग के सभी किस्म के भत्तों को मंजूरी दे दी है। इनमें भारतीय रेल के कर्मचारियों को दिए जाने वाले यूनिफॉर्म अलाउंस, वॉशिंग अलाउंस, शूज अलाउंस और किट मेनटेनेंस अलाउंस शामिल हैं। बोर्ड ने इसके अलावा एक सूची भी जारी की है, जिसमें इस बात का जिक्र है कि प्रत्येक अधिकारी और कर्मचारी के लिए यह भत्ते की रकम क्या होगी। नर्सिंग स्टाफ को छोड़ कर सभी कर्मचारियों को ये भत्ते मुहैया कराए जाएंगे।

बता दें कि रेलवे एंप्लॉई एसोसिएशन लंबे समय से इन भत्तों की मांग पर अड़ा है। उनका कहना था कि ये भत्ते उनकी तनख्वाह का हिस्सा हैं। रेल बोर्ड के मुताबिक, निर्धारित की गई वर्दी कर्मचारियों को ड्यूटी के दौरान पहननी पड़ती है।

बोर्ड ने इसके साथ ही यह भी स्पष्ट किया है कि ये भत्ते 2017 से इन कर्मचारियों को दिए जाएंगे। हालांकि, ऐसा सभी कर्मियों के लिए मान्य नहीं होगा। इनमें सिर्फ आरआरएफ/आरपीएसएफ अफसर, स्टेशन मास्टर, रनिंग स्टाफ, स्टाफ कार ड्राइवर, एमटीएस और नर्सें शामिल होंगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 वित्त विधेयक लोकसभा में पारित, पेट्रोल, डीजल पर बढ़ा टैक्स वापस लेने की मांग खारिज